अंपायर को नहीं देनी कैप, अब प्रैक्टिस के दौरान ट्रायल नहीं जा पाएंगे खिलाड़ी
इस बात की जानकारी दी गई है कि खिलाड़ी अपना समान दूसरे को नहीं देगा लेकिन इस बात की कोई जानकारी नहीं है की खिलाड़ी का सामान कौन संभालेगा।


फिलहाल तो कोरोना वायरस की वजह से खेल रुका हुआ है लेकिन जब खेल शुरू होगा तब अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अपनी कुछ पुरानी आदतों में बदलाव लाना पड़ेगा, जैसे कि उन्हें प्रैक्टिस के दौरान शौचालय जाने और मैदानी अंपायरों को अपनी कैप या सनग्लास सौंपने की अनुमति नहीं होगी। 


ICC यानी  अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद के दिशा निर्देश के अनुसार खिलाड़ी अपने निजी सामान जैसे सनग्लास तोलिया कैप को फील्ड पर अंपायर या फिर अपने किसी साथी खिलाड़ी को नहीं सौंपनी है, साथ ही खेल के दौरान उन्हें शारीरिक दूरी बनाकर रखनी पड़ेगी।

क्रिकेट में अक्सर यह होता है की जब विकेट लेते हैं तो अक्सर उत्साह में आकर एक दूसरे के गले लग जाते हैं लेकिन अब उनको इस चीज का ध्यान रखना पड़ेगा की सोशल डिस्टेंसिंग का पालन वह कायदे से करें क्योंकि खेल शुरू होगा लेकिन अभी कोरोनावायरस का संकट अभी खत्म नहीं हुआ है।


इस बात की जानकारी दी गई है कि खिलाड़ी अपना समान दूसरे को नहीं देगा लेकिन इस बात की कोई जानकारी नहीं है की खिलाड़ी का सामान कौन संभालेगा।

यही नहीं अंपायरों को भी गेंद को पकड़ते समय दस्तानों का उपयोग करना होगा। खिलाड़ी अपनी कैप और धूप के चश्मों को मैदान पर नहीं रख सकते क्योंकि इससे पेनल्टी रन जा सकते हैं, जैसे कि हेलमेट के मामले में होता है।


आईसीसी पहले भी गेंद पर लार ना लगाने की सिफारिश कर चुकी है और अब आईसीसी चाहती है कि खिलाड़ी ड्रेसिंग रूम में कम से कम समय बिताएं।

(देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं)


अधिक खेल की खबरें