IPL के पूर्व CEO का खुलासा, इसलिए 2008 में दिल्ली की टीम ने कोहली को नहीं खरीदा
विराट कोहली (file photo)


नई दिल्ली : विराट कोहली को दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में एक माना जाता है. क्रिकेट जगत की कई हस्तियां भी उनकी बल्लेबाजी के कायल हैं. विराट कोहली ने बल्लेबाजी के दम पर अपने लिए कई नए नाम अर्जित कर लिए है, कोई उन्हें किंग कोहली कहता है, तो कोई रन मशीन, तो कोई चेज मास्टर. इतना ही नहीं विराट को टी20 क्रिकेट का डॉन ब्रैडमैन भी कहा जाता है. 

बता दें कि क्रिकेट जगत में आज भले ही विराट कोहली ने अपने बल्ले से चारों ओर कमाल दिखाया है, लेकिन एक वक्त ऐसा भी था जब दिल्ली डेयरडेविल्स ने आईपीएल में खिलाड़ियों की निलामी के दौरान उन्हें खरीदने से मना कर दिया था. इस बात का खुलासा खुद आईपीएल के पूर्व सीओओ सुंदर रमन ने किया.  

सुंदर रमन ने क्रिकेट टॉक शो होस्ट गौरव कपूर के साथ बातचीत के दौरान इस मजेदार किस्से को उजागर किया. सुंदर ने बताया कि आईपीएल ऑक्शन से पहले विराट के नाम की चर्चा खूब हो रही थी क्योंकि उनकी कप्तानी में टीम इंडिया उसी साल अंडर-19 विश्व कप का खिताब जीतकर लौटी थी. यही नहीं उनकी बल्लेबाजी भी खूब सुर्खियों में थी. दिल्ली की टीम को उस समय ऐसा लगता था कि उन्हें एक बल्लेबाज से ज्यादा एक गेंदबाज की जरूरत है और इसी वजह से उन्होनें विराट को निलामी के दौरान नहीं खरीदा था.    

सुंदर ने बताया 'रोचक बात यह थी कि उसी साल भारत ने अंडर-19 वर्ल्ड कप भी जीता था, वो भी ऑक्शन से एक महीने पहले ही. टीम की कप्तानी विराट कोहली ने की थी. हमने फैसला लिया था कि अंडर-19 खिलाड़ियों के लिए एक अलग ड्राफ्ट होगा. नीलामी के कुछ दिन बाद अंडर-19 खिलाड़ियों का ड्राफ्ट था. सरप्राइज, सरप्राइज! ड्राफ्ट में पहले खिलाड़ी विराट कोहली नहीं थे. दिल्ली डेयरडेविल्स ने प्रदीप सांगवान को खरीदा था, क्योंकि उनके पास वीरेंद्र सहवाग और एबी डिविलियर्स जैसे बल्लेबाज थे और उन्हें टीम में गेंदबाज की जरूरत थी. इसके बाद आरसीबी ने विराट को खरीदा और बाकी सबकुछ इतिहास है.'


(देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं


अधिक खेल की खबरें