विराट कोहली ने की खिलाड़ियों की सैलरी बढ़ाने की मांग
भारतीय कप्तान ने ए ग्रेड क्रिकेटरों के लिए पैसे बढ़ाकर 5 करोड़ रुपए करने की भी मांग की है।


नई दिल्ली : भारतीय कप्तान विराट कोहली बीसीसीआई के नए अनुबंध से नाखुश हैं। हाल ही में बीसीसीआई ने खिलाड़ियों को ग्रेड के अनुसार मिलने वाली राशि में दोगुना इजाफा किया है। इसके बाद भी दिग्गज भारतीय खिलाड़ियों का कहना है कि भारतीय क्रिकेटरों को सालाना अनुबंध से मिलने वाली रकम विश्व क्रिकेटरों को मिलने वाले पैसे की तुलना में काफी कम है। भारतीय कप्तान ने ए ग्रेड क्रिकेटरों के लिए पैसे बढ़ाकर 5 करोड़ रुपए करने की भी मांग की है।

दूसरे देशों के खिलाड़ियों को मिलने वाले पैसे की तुलना में बीसीसीआई की तरफ से दी जाने वाली रकम को अपर्याप्त बताते हुए कोहली कई बार खिलाड़ियों की सैलरी बढ़ाने की मांग कर चुके हैं। फर्स्टपोस्ट में छपी खबर के अनुसार बीसीसीआई से जुड़े एक सूत्र ने इसकी पुष्टि की है। फर्स्टपोस्ट की खबर के मुताबिक, 'कोहली के साथ कोच अनिल कुंबले ने भी खिलाड़ियों को बोनस दिए जाने की मांग की है।'

फर्स्टपोस्ट की खबर में बीसीसीआई से जुड़े एक सूत्र ने कहा, 'कोहली और कुंबले ने दूसरे देशों के क्रिकेट खिलाड़ियों को मिलने वाले पैसों की तुलना करते हुए अपना पक्ष रखा है। सूत्र का कहना है कि भारतीय कप्तान ने यह कदम बेहद कुशलता से उठाया है। योजनाबद्ध तरीके से कोहली ने अपनी मांग रखी है। इसके लिए उन्होंने अपनी तरफ से कुछ दूसरे कैंपेनर्स को भी जोड़ा है। अपनी मांग रखते हुए भारतीय कप्तान ने न तो किसी को नाराज ही किया है और न किसी को खुश करने के लिए अतिरिक्त प्रयास किए हैं। भारतीय कप्तान की योजना खेल के अलग-अलग फॉर्मेट से जुड़े खिलाड़ियों को अपने साथ जोड़ने की भी है।'

रिपोर्ट के अनुसार, 'भारतीय टीम के कोच अनिल कुंबले ने भी कोहली का समर्थन किया है। उन्होंने अपने समर्थन में तर्क दिया है कि इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और साउथ अफ्रीका के खिलाड़ी सालाना 10 से 12 करोड़ (मैच फी और रिटेनर फी जोड़कर) की कमाई करते हैं। वहीं भारतीय टीम के ए ग्रेड के खिलाड़ी भी महज 4 से 5 करोड़ तक ही कमा पाते हैं। भारतीय कप्तान क्रिकेटरों की सैलरी से संतुष्ट नहीं हैं इसकी एक वजह यह भी है कि बीसीसीआई विश्व का सबसे धनी क्रिकेट बोर्ड है। आईसीसी को मिलने वाले रेवेन्यू से बड़ा हिस्सा भारतीय बोर्ड को मिलता है।'

अधिक खेल की खबरें