गाजियाबाद में 25-25 हजार के दो इनामी बदमाश गिरफ्तार
प्रचार के अंतिम दिन हर दल के कार्यकर्ताओं ने खूब बहाया पसीना

प्रचार के अंतिम दिन हर दल के कार्यकर्ताओं ने खूब बहाया पसीना

लखनऊ। चुनाव प्रचार के अंतिम दिन भाजपा, कांग्र्रेस और गठबंधन प्रत्याशियों के साथ पाार्टी कार्यकर्ताओं ने पूरे जोर शोर के साथ जमकर पसीना बहाया। बहरहाल राजधानी में मुख्य मुकाबले में भाजपा के सामने कोई दल नजर नही आ रहा है। लेकिन सपा बसपा गठबंधन प्रत्याशी कुछ वोट प्रभावित करेगी जबकि कांग्रेस फिर तीसरे स्थान पर जा सकती है। भारतीय जनता पार्टी लखनऊ लोकसभा प्रत्याशी गृहमंत्री राजनाथ सिंह के समर्थन के आज प्रमुख बाजारों में पदयात्रायें निकालकर चुनाव प्रचार समाप्त किया गया। महानगर महामंत्री पुष्कर शुक्ला ने बताया कि पदयात्राओं की अटूट श्रृंखला बनाकर भाजपा ने एक एक मतदाता तक पंहुचने की पुरजोर कोशिश की।

04-May-2019

प्रमोद कृष्णम के पक्ष में जागरूक अधिवक्ता संघ
यूपी और बिहार में गठबंधन का बेजोड़ असर: शत्रुघ्न सिन्हा
पांचवें चरण का चुनाव प्रचार थमा, प्रतिष्ठा दांव पर

पांचवें चरण का चुनाव प्रचार थमा, प्रतिष्ठा दांव पर

लखनऊ। लोकसभा चुनाव के पांचवें चरण का चुनाव प्रचार शनिवार को थम गया। पांचवें चरण की 14 लोकसभा सीटों पर छह मई को मतदान होगा। 2 करोड़ 47 लाख वोटर 181 प्रत्याशियों का भविष्य तय करेंगे। इस चरण में भारतीय जनता पार्टी, कांग्रेस और गठबंधन के जिन दिग्गज प्रत्याशियों की किस्मत दांव पर लगी है, उनमें भारतीय जनता पार्टी के राजनाथ सिंह, लल्लू सिंह, बृजभूषण शरण सिंह, स्मृति ईरानी, कौशल किशोर, कीर्तिवर्धन सिंह, कांग्रेस के राहुल गांधी, सोनिया गांधी, जितिन प्रसाद, प्रमोद आचार्य कृष्णम, कैसर जहां, तनुज पुनिया, आरके चैधरी, निर्मल खत्री, गठबंधन से पूनम सिन्हा, गुड्डू सिंह, सीएल वर्मा और इंद्रजीत सरोज जैसे दिग्गज शामिल हैं।

04-May-2019

सपा-बसपा-रालोद गठबंधन को माकपा का समर्थन
भारत में 2 करोड़ अस्थमा के मरीज
राज्य कर्मचारी एसोसिएशन की 12 सूत्रीय मांगों पर शासन का सकारात्मक रूख
आईएएस के यहाॅ पड़े आयकर छापा सूचना नहीं देगी सरकार
शत्रुधन सिन्हा ने मौलाना से  मांगा पत्नी के लिए समर्थन
  पार्किग मे आग,चार कारे जली
अब कम दरें डालने वाले ठेकदारों  की खैर नही

अब कम दरें डालने वाले ठेकदारों की खैर नही

लखनऊ। इंजीनियरिंग विभागों में प्रदेश के विकास के कार्याे में निविदायें आमंत्रित करने पर ठेकेदारों में प्रतिस्पर्धा के तह्त 30 से 40 प्रतिशत तक कम दरों पर टेण्डर डाल दिये जाते है। इसका परिणाम यह होता है कि अधिकत्तर कार्यो की गुणवत्ता प्रभावित होती है। जब इसकी जाॅच या मापन कार्य कार्मिकों और अधिकाकरियों द्वारा किया जाता है तो कमी निकलने पर ठेकेदारों द्वारा अधिकारियों एवं कार्मिकों पर भुगतान का दबाव बनाने के लिए गाली गलौच से लेकर प्राणघातक हमले एवं कई हत्याएं तक हो चुकी है। डिप्लोमा इंजीनियर्स संघ के प्रदेश अध्यक्ष हरिकिशोर तिवारी ने बताया कि इस मसले पर लम्बी वार्ता और तथ्यों के आधार पर विभााध्यक्ष स्तर पर एक आदेश जारी हो चुका है। इस आदेश के आने के बाद विभाग मकें कम दर पर टेण्डर डालने वाले ठेकेदारों पर लगाम लगेगी और कोई भी कार्य गुणवत्ता के साथ होगा।

04-May-2019

काजी और इमाम को मोदी की तारीफ करना पड़ा महंगा, जान से मारने की मिली धमकी
ओडिशा : चक्रवाती तूफान के बीच बच्ची का जन्म, माता-पिता ने नाम दिया फानी
CM योगी ने दिया चुनाव आयोग के नोटिस पर जवाब
हमारा क्रिश्चियन समाज गृहमंत्री राजनाथ सिंह के साथ: कॉनराड