दिल्ली: सूटकेस में मिला 5 साल के बच्चे का शव
दिल्ली: सूटकेस में मिला 5 साल के बच्चे का शव


नई दिल्ली। दिल्ली के स्वरूप नगर से एक दिल दहला देने वाली वारदात सामने आई है। स्वरूप नगर इलाके में एक माह पहले लापता हुए बच्चे का शव मिला है। हत्यारे ने मासूम को मारने के बाद शव को पॉलीथिन में पैक कर सूटकेस में रख दिया था। पुलिस ने पांच साल के मासूम की हत्या के आरोप में दिल्ली में सिविल सर्विस की तैयारी करने वाले युवक को गिरफ्तार किया है। पुलिस के मुताबिक आरोपी ने मासूम आशीष का अपहरण करते ही उसकी हत्या कर दी थी। आशीष की हत्या में पुलिस ने कई धाराओं के तहत आरोपी अवधेश के खिलाफ स्वरूप नगर पुलिस थाने में मामला दर्ज कर लिया है।

आरोपी देर रात तक पार्टी करने का शौकीन था
उत्तर पश्चिमी दिल्ली के डेप्यूटी पुलिस कमिश्नर असलम खान ने बताया कि 7 साल का आशीष बीते 7 जनवरी से लापता था। मंगलवार की सुबह आशीष का शव नाथुपुरा गांव में एक सूटकेस में मिला। सूटकेस के आधार पर पुलिस ने आरोपी किराएदार अवधेश शाक्या (28-29) को गिरफ्तार कर लिया है। हत्या का मूल कारण अभी पता नहीं चल सका है। शुरुआती जांच में पुलिस को पता चला है कि आरोपी देर रात तक पार्टी करने का शौकीन था। जिसको लेकर उसकी मकान मालिक से झगड़ा भी हो चुका था।

बच्चा आरोपी को अंकल कहता था
आरोपी ने पुलिस को बताया कि आशीष उससे घुलामिला हुआ था और उसे अंकल कहता था। आशीष को उसके परिजन उससे मिलने नहीं देते थे। पुलिस ने बताया कि आरोपी तीन बार यूपीएससी की लिखित परीक्षा दे चुका है। हत्याकांड को अंजाम देने के बाद आरोपी शाक्या ने शव को पॉलीथिन में पैक करके सूटकेस में रख दिया। कमरे में कुछ मरे हुए चूहे भी रख दिए। पड़ोसियों को जब बदबू आती थी तो कहता था कि घर के अंदर चूहा मरा हुआ है। बदबू कम करने के लिए उसने कमरे में बहुत सारे परफ्यूम रखे हुए थे, जो समय-समय पर डेड बॉडी पर छिड़कता रहता था।

पीड़ित पक्ष के मकान में किराए पर रह रहा था आरोपी
अपने परिवार और इलाके के लोगों के बीच अपना रसूख कायम रखने के लिए आरोपी अवधेश शाक्या ने बताया था कि वह सीबीआई में काम करता है। सबके बच्चों की नौकरी लगवा सकता है। इतना ही यूपीएससी अटैम्प्ट कर चुका है। अवधेश पहले बच्चे के घर में ही रहता था, लेकिन बच्चे के पिता को लगा की अवधेश को ज्यादा वैल्यू दी जा रही है। पुलिस ने बताया कि आरोपी पिछले 8 साल से पीड़ित पक्ष के मकान में किराए पर रह रहा था। पांच साल पहले आशीष के परिजनों ने आरोपी को अपना दूसरा घर किराए पर देर दिया था। तब भी वो आशीष से संपर्क में था। वहीं अवधेश ने बताया कि इलाके लोग बताते थे कि बच्चे के माता-पिता उसे गाली देते हैं इसलिए उनसे बदला लेने के लिए गुस्से में उसने बच्चे को मार दिया। बच्चे को मारने से पहले उसने 15 लाख रुपये फिरौती मांगने का प्लान बनाया था।

अधिक राज्य की खबरें

भाजपा के नौकरी लालीपॉप से प्रदेश का युवा हो रहा है डिप्रेशन का शिकार : सुरेन्द्रनाथ त्रिवेदी..

राष्ट्रीय लोकदल के प्रदेश प्रवक्ता सुरेन्द्रनाथ त्रिवेदी ने केन्द्र और प्रदेश सरकार को पूर्णतः युवा विरोधी करार ......