इस महिला को कलयुगी द्रौपदी कहते हैं लोग, जानिए क्या है मामला
इस महिला को कलयुगी द्रौपदी कहते हैं लोग, जानिए क्या है मामला


देहरादून। हिंदू धर्म के प्रमुख ग्रंथ, महाभारत में द्रौपदी के बारे में तो हर कोई जानता है। हम सभी ने पढ़ा या महाभारत नामक धारावाहिक नाटक में देखा है कि द्रौपदी के पांच पांडव पति थे। 

हालांकि ऐसा होने के पीछे कई कारण बताए जाते हैं। महाभारत में द्रौपदी के बारे में तो हर कोई जानता है लेकिन आज हम बताएंगे कि जिस तरह द्रौपदी ने एक ही परिवार के पांच भाइयों से शादी की थी, उसी तरह इस महिला ने भी ठीक वैसा ही कुछ किया है।

उत्तर भारत में रहने वाली इस महिला ने एक नहीं बल्कि 5 भाईयों से शादी की हैं। वैसे तो आप जानते है कि भारत में किसी भी महिला या पुरूष को एक से अधिक विवाह करने की अनुमति नहीं है, लेकिन आज हम आपको 5 शादियां करने वाली महिला के बारे में बताने जा रहे हैं। 

उत्तराखंड के देहरादून के एक गांव में राजो वर्मा नाम की एक लडक़ी रहती है। राजो वर्मा को वहां स्थित एक परिवार के सगे पांच भाइयों के साथ शादी करनी पड़ी। राजो को इन पांच भाइयों के साथ एक ही जैसा बर्ताव करना पड़ता है।

पत्नी होने के नाते राजो का अपने हर पति के साथ शारीरिक संबंध भी है। पांच पतियों से शादी के बाद सभी एक साथ एक ही कमरे में रहते हैं। 

आप सोच रहे होंगे कि पांच पति एक पत्नी के साथ एक ही कमरे में कैसे रह लेते हैं। दरअसल, एक ही कमरे के घर में हर रात एक भाई बीवी के साथ कमरे में सोता है और बाकी चार बाहर बरामदे में खटिया लगाते हैं। 

राजो का एक बेटा भी है लेकिन किसी को भी ये पता कि आखिर पांच भाइयों में उस बच्चे का पिता कौन है। हालांकि इन पांच भाइयों में इस बात को लेकर कभी तनाव की स्थिति नहीं रही। पांचों मिलकर रजो और उसके बच्चे की देखभाल करते हैं।

राजो से इस बारे में पूछने पर उसका कहना है कि उसे कभी इस बात से कोई परेशानी नहीं हुई कि उसके पांच पति है बल्कि वो खुद को खुशकिस्मत मानती है। राजो का ये भी कहना है कि उसके पांचों पति उससे बहुत प्यार करते हैं। 

राजो आगे कहती है कि मुझे पता है कि इस तरह की शादी कानूनन अपराध है लेकिन यहां लड़कियों की संख्या में कमी के चलते ऐसा करना पड़ता है। 

बता दें उत्तराखंड और तिब्बत के कई इलाकों में लड़कियों की संख्या पुरूषों की तुलना में काफी कम है। इस वजह से उन्हें शादी के लिए इस अजीबोगरीब प्रथा का पालन करना पड़ता है।

अधिक राज्य की खबरें