टैग:Know how bad children are for malnourished children
जानिए  बालमजदूरी है कितनी घातक बच्चो के लिए
World Day Against Child Labour 2019



नई दिल्ली:  वर्ल्ड डे अगेंस्ट चाइल्ड लेबर (World Day Again st Child Labour) की शरुआत साल 2002 से हुई. बाल मज़दूरी  को जड़ से खत्म करने के लिए बालश्रम निषेध दिवस हर साल 12 जून को मनाया जाता है. इंटरनेशनल लेबर ऑर्गनाइजेशन  ने बालश्रम निषेध दिवस शुरुआत की. इस साल वर्ल्ड डे अगेंस्ट चाइल्ड लेबर डे की थीम Children shouldn't work in fields, but on dreams यानी बच्चे फील्ड पर नहीं बल्कि अपने सपनों पर काम करें. इंटरनेशनल लेबर ऑर्गनाइजेशन के मुताबिक आज भी 152 मिलियन बच्चे मज़दूरी करते हैं. बाल मज़दूर हर क्षेत्र में मौजूद हैं, वहीं 10 में से 7 बच्चे खेतों में काम करते हैं. 

वर्ल्ड डे अगेंस्ट चाइल्ड लेबर पर नोबल प्राइज़ विजेता कैलाश सत्यार्थी ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा कि "ये किसके बच्चे हैं जो पढ़ाई और स्वतंत्रता छोड़ कारखानों और फैक्ट्री में मज़दूरी कर रहे हैं? यह हमारे बच्चे हैं. इसलिए लोगों से विनती है कि जहां भी बच्चा काम करता हुए दिखे उस जगह की सेवा ना लें. 210 मिलियन युवा बेरोज़गार हैं, वाबजूद इसके 152 मिलियन बच्चे मज़दूरी क्यों कर रहे हैं.
वहीं, वाइस प्रेसिडेंट वेंकैया नायडू ने भी पोस्ट शेयर करते हुए लिखा कि चाइल्ड लेबर समाज के लिए खतरनाक है. यह बच्चों के विकास में रुकावट है. इस वर्ल्ड डे अगेंस्ट चाइल्ड लेबर पर आइए हम इस सामाजिक बुराई को मिटाने का संकल्प लें और बच्चों को एक सुरक्षित, खुशहाल और सहायक वातावरण सुनिश्चित करें.


अधिक राज्य की खबरें