लखनऊ समेत प्रदेश में ईद-उल-अजहा की नमाज अता, उपमुख्यमंत्री ने दी बधाई
आगरा में ईद-उल-अजहा के मौके पर विश्व प्रसिद्ध ताजमहल पर भी नमाजियों ने नमाज अता की और सौहार्द शांति की दुआ की।


लखनऊ : उत्तर प्रदेश में शिया सुन्नी समुदाय के लोगों ने ईद-उल-अजहा की नमाज अता की है। सोमवार सुबह से ही मस्जिदों पर नमाजियों ने अपना स्थान ले लिया था और वक्त आते ही उन्होंने अमन चैन की दुआ मांगी है। लखनऊ में सुन्नी समुदाय के सबसे बड़े स्थल ईदगाह पर नमाजियों को बधाई देने के लिए इस बीच उपमुख्यमंत्री डॉ.दिनेश शर्मा भी पहुंचें। 

लखनऊ में ईदगाह पर इमाम मौलाना खालिद रशीद फिरंगी महली ने सुबह 10 बजे ईद-उल-अजहा की नमाज अदा करायी। नमाज अदा करने के बाद नमाजियों ने एक दूसरे के गले लगकर बधाई दी। नमाजियों के बीच उपमुख्यमंत्री डॉ.दिनेश शर्मा पहुंचें और सभी को बधाई दी। उन्होंने इस दौरान कहा कि ईदगाह के सामने रामलीला मैदान है। नवाब ने जमीन के दो टूकड़े आमने सामने दिये थे। यह एक सौहार्द का क्षेत्र है ईदगाह।

उन्होंने कहा कि रामलीला होता है तो मुस्लिम भाई प्याउ लगाते हैं, बकरीद के नमाज के वक्त हिन्दू भाईयों ने सौहार्द कर रखा है। यही यहां की संस्कृति है। जिसके लिए लखनऊ जाना जाता है। यहां एक साथ मिलकर सभी त्यौहार मनाते है। 

रामपुर में सपा के कद्दावर नेता और सांसद आजम खान ईद-उल-अजहा की नमाज पढ़ने के लिए  एक महीने के बाद जिले में पहुंचे। आजम नमाज अता करने के लिए ईदगाह गए और नमाज करने के बाद अपने साथियों को बधाईयां दी। इस दौरान आजम ने मीडिया से भी बातचीत की। उन्होंने कहा कि जौहर विश्वविद्यालय मामले वे पाक साफ है। उनको सांसद बनने की सजा दी जा रही है। 

उन्होंने कहा कि क्या सरकार के लोग उनके साथ ये कर के विधानसभा चुनाव जीत लेंगे। क्या विधानसभा में उनको हरा सकेंगे। इस तरह की हरकत करने से क्या जनता उनके साथ में जाएगी। उन पर जुल्म किया जा रहा है। आजतक उन पर एक मुकदमा नहीं था, अब विश्वविद्यालय के नाम पर कई मुकदमें कर दिये गये।  

वाराणसी में सावन के अंतिम सोमवार को कांवड़ियों और शिवभक्तों की भीड़ के बीच शहर के तमाम मस्जिदों में बकरीद की नमाज अता की गई। रेवड़ी तालाब स्थित ईदगाह में सबसे ज्यादा भीड़ नमाजियों की जुटी और उन्होंने सुबह 11 बजे एक साथ अमन चैन और प्राकृतिक आपदाओं में फंसे लोगों के लिए दुआ मांगी। 

गोरखपुर में ईद-उल-अजहा की नमाज सबसे पहले खूनीपुर की कुरैशिया मस्जिद (सुप्पन खां) में सुबह छह बजे अता की जायेगी। इसके बाद शहर के अन्य मस्जिदों में भी नमाज अता होते हुए सुबह साढ़े दस बजे बसंतपुर की अहमदी सुन्नी जामा मस्जिद अंतिम नमाज हुई। मस्जिदों के बाहर हाथ पांव धोने के लिए इंतजाम किये गये थे। नमाज अता करने के बाद कुर्बानी का दौर शुरु हो गया। 
 
आगरा में ईद-उल-अजहा के मौके पर विश्व प्रसिद्ध ताजमहल पर भी नमाजियों ने नमाज अता की और सौहार्द शांति की दुआ की। वहीं शाही जामा मस्जिद पर इमाम मो. इरफान उल्लाह खान निजामी साहब ने सभी को नमाज अता कराई। उन्होंने सभी नमाजियों को खुत्वाह पढ़ाया और उन्होंने देश में भाईचारा, अमन व चैन की दुआ मांगने की सिख दी। ईदगाह पर जुटे नमाजियों ने देश में अमन चैन के साथ ही जम्मू कश्मीर के लिए भी दुआ मांगी। 

अधिक राज्य की खबरें