टैग:MLAs#,Speaker#,bengluru#,Karnataka
विधायक की भी नहीं मानी प्रभावितों ने, भूमि उपलब्ध कराने की मांग पर अड़े
उल्लेखनीय है कि गत 18 जुलाई को चमोली तहसील प्रशासन


गोपेश्वर: चमोली जिला मुख्यालय गोपेश्वर नगर के नैग्वाड़ मोहल्ले में तहसील प्रशासन और नगर पालिका की ओर से अतिक्रमण के खिलाफ की गई कार्रवाई से प्रभावित लोगों से मंगलवार को बदरीनाथ विधायक ने मुलाकता की। लेकिन विधायक के प्रभावितों को आवासीय व्यवस्था का आश्वासन देने के बाद भी कोई सहमति नहीं बन पाई है। प्रभावितों ने विधायक के आश्वासन पर असहमति जताते हुए आंदोलन जारी रखने की बात कही है। साथ उन्होंने भूमि उपलब्ध न कराने पर आगामी 15 अगस्त से आमरण अनशन शुरू करने का ऐलान किया है।

उल्लेखनीय है कि गत 18 जुलाई को चमोली तहसील प्रशासन और नगर पालिका की ओर से गोपेश्वर के नैग्वाड़ मोहल्ले में सरकारी जमीन पर बने आधा दर्जन से अधिक स्थाई और अस्थाई भवनों को ध्वस्त कर दिया गया था। जिसके बाद प्रभावित हुए लोग 26 जुलाई से भूमि उपलब्ध कराने की मांग को लेकर धरना दे रहे हैं। इसे देखते हुए मंगलवार को गोपेश्वर पहुंचे बदरीनाथ विधायक महेंद्र भट्ट ने प्रभावितों को नगर पालिका की ओर से आवासीय व्यवस्था करवाने का आश्वासन दिया। लेकिन प्रभावितों की ओर से भूमि उपलब्ध कराने की मांग की जा रही है। इसके चलते  इस मामले में सहमति नहीं बन सकी। नगर पालिका अध्यक्ष  सुरेंद्र लाल और अधिशासी अधिकारी अनिल पंत मौके पर पहुंचे। उन्होंने प्रभावितों को जानकारी देते हुए बताया कि आवासीय व्यवस्था करने के लिये प्रस्ताव तैयार किया गया है। शासन से स्वीकृति पर कार्रवाई की जाएगी। इस अवसर पर जिला पंचायत सदस्य ऊषा रावत, उपेंद्र भंडारी, लोकेंद्र रावत, शकुंतला राज, दर्शन लाल, चंदू आदि मौजूद थे।


अधिक राज्य की खबरें

उत्तर प्रदेश के इस जिले में जिलाधिकारी से लेकर कर्मचारी तक रोज सुबह लगाते हैं कार्यालय में झाड़ू..

उत्तर प्रदेश के जनपद गाजियाबद में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छता अभियान का असर साफ-साफ देखने को ......