उप्र में खोला जाएगा एक नया सैनिक स्कूल: योगी आदित्यनाथ
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को यहां कैप्टन मनोज कुमार पाण्डेय सैनिक स्कूल के विद्यार्थियों को 73वें स्वतंत्रता दिवस और रक्षा बंधन की बधाई दी।


लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को यहां कैप्टन मनोज कुमार पाण्डेय सैनिक स्कूल के विद्यार्थियों को 73वें स्वतंत्रता दिवस और रक्षा बंधन की बधाई दी। इस अवसर पर स्कूल की छात्राओं ने मुख्यमंत्री को रक्षा सूत्र बांधा और उन्होंने छात्राओं को उपहार स्वरूप ट्रैक सूट भेंट किया। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने घोषणा की कि राज्य सरकार प्रदेश में एक नये सैनिक स्कूल की स्थापना करेगी। उन्होंने सैनिक स्कूल की छात्राओं के लिए 150 क्षमता वाले हाॅस्टल का निर्माण कराए जाने का भी ऐलान किया।

सैनिक स्कूल के विद्यार्थियों की क्षमता 800 किए जाने का ऐलान
मुख्यमंत्री ने अवस्थापना सुविधाओं को दोगुना करते हुए सैनिक स्कूल के विद्यार्थियों की क्षमता को 400 से बढ़ाकर 800 किए जाने की घोषणा की। उन्होंने निर्माणाधीन ऑडिटोरियम की क्षमता को 1000 किये जाने का भी ऐलान किया। उत्तर प्रदेश सैनिक स्कूल, लखनऊ की स्थापना वर्ष 1960 में तत्कालीन मुख्यमंत्री डाॅ. सम्पूर्णानन्द के प्रयासों से हुई जो देश का पहला सैनिक स्कूल भी है।

केन्द्र सरकार ने किया स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के सपने को मूर्त रूप देने का काम
मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के सपने को मूर्त रूप देने का काम वर्तमान केन्द्र सरकार ने अनुच्छेद 370 को समाप्त करके किया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के साहसिक निर्णय से देश में ‘एक विधान, एक प्रधान और एक निशान’ का सपना साकार हुआ है। यह वर्ष महात्मा गांधी की 150वीं जयंती का वर्ष भी है। उनका मानना था कि स्वदेशी, स्वच्छता, स्वावलम्बन और ग्राम स्वराज के माध्यम से ही स्वस्थ भारत की संकल्पना को साकार किया जा सकता है। इससे पूर्व, विद्यालय परिसर में मुख्यमंत्री जी ने रुद्राक्ष का एक पौधा रोपित किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने विज़िटर बुक पर अपने विचार भी लिखे।

उप्र सभी फ्लैगशिप योजनाओं में पहले स्थान पर
मुख्यमंत्री ने कहा कि यह वर्ष गुरु नानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व है। गुरु नानक का संदेश मानव का कल्याण करने वाला है। आवश्यकता है कि गुरु नानक जी के संदेश को दुनिया में ले जाया जाए। इस वर्ष राज्य सरकार ने प्रयागराज कुम्भ-2019 का सफल आयोजन किया। साथ ही, 15वें प्रवासी भारतीय दिवस का भी सफल आयोजन कराया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री  के नेतृत्व में राज्य सभी फ्लैगशिप योजनाओं में पहले स्थान पर है।

सैनिक स्कूल में बालिकाओं को पहली बार मिला प्रवेश 
मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान सरकार ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ को गति देने का कार्य कर रही है। इसी का परिणाम है कि कैप्टन मनोज पाण्डेय सैनिक स्कूल में बालिकाओं को भी पहली बार प्रवेश दिया गया है। यह बालिकाएं देश की रक्षा में अपना महत्वपूर्ण योगदान देंगी। उन्होंने विद्यार्थियों को एक सूत्र वाक्य दिया। उन्होंने कहा कि प्रशिक्षण के दौरान सैनिक जितना खून पसीना बहाएगा, युद्ध के मैदान में उतना ही कम खून-पसीना बहाना पड़ेगा।

अधिक राज्य की खबरें