पांच राज्यों की पुलिस का एटीएस के साथ छापा, तीन संदिग्ध आतंकी गिरफ्तार
अलग-अलग शहरों से मिली सटीक सूचना पर छापेमारी करते हुए तीन संदिग्ध आतंकियों को धर दबोचा। (फाइल फोटो)


लखनऊ : उत्तर प्रदेश एंटी टेररिस्ट स्कवॉड (एटीएस) की टीम ने पांच राज्यों के पुलिस की मदद से आतंकवाद के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की। अलग-अलग शहरों से मिली सटीक सूचना पर छापेमारी करते हुए तीन संदिग्ध आतंकियों को धर दबोचा। पकड़े गए संदिग्ध प्रदेश में आंतकवाद का बड़ा गिरोह तैयार कर रहे है, आईएस से जुड़े होने की आशंका जताई जा रही हैं, हालांकि टीम जांच कर जल्द ही खुलासा करेगी। 

एडीजी लॉ एण्ड आर्डर दलजीत चौधरी ने बताया कि टीएस के पास यह सूचना थी कि आतंकवादी घटनाएं करने के लिए एक गिरोह तैयार हो रहा है जिसके कुछ अति-सक्रिय सदस्य नए सदस्य बनाने का प्रयास कर रहे हैं। स्पेशल सेल दिल्ली पुलिस, सीआई सेल आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र एटीएस, पंजाब पुलिस, बिहार पुलिस के साथ मिलकर इस ऑपरेशन चलाया गया। गुरुवार की सुबह बिजनौर में एटीएस और एसटीएफ ने छापेमारी की। बिजनौर के बढ़ापुर कस्बे के मोहल्ला भजड़ावाला में मस्जिद से दो लोगों को हिरासत में लिया है। इनमें फरमान तथा तनवीर हैं। फरमान मस्जिद का मुफ्ती बताया जा रह है जबकि तनवीर कारी है। 

यूपी एटीएस ने 5 राज्यों की पुलिस के साथ मिलकर आज मुंबई, जालंधर, नरकटियागंज (बिहार), बिजनौर और, मुजफ्फरनगर में ऑपरेशन किए गए। तीन व्यक्तियों को आतंकवादी साजिश करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तारियाँ मुंबई, जालंधर और, बिजनौर से हुई हैं 6 व्यक्तियों से पूछताछ जारी है, सबूतों के आधार पर कानूनी कार्यवाई की जाएगी। एडीजी ने बताया कि पकड़े गए संदिग्ध युवाओं को भटकाते हैं और उन्हें समझाकर आंतकवाद रास्ते पर चलने के लिए राजी करते हैं। अब तक इनके खिलाफ कोई सबूत नहीं मिला है, लेकिन ये एक आपराधिक षड़यंत्र हो सकता है। फिलहाल टीम मामले की तहकीकात कर रही है।

गौरतलब है कि पिछले दिनों मध्य प्रदेश के भोपाल में हुए ट्रेन ब्लॉस्ट के बाद सक्रिय एटीएस की टीम ने सघन अभियान चलाकर एमपी समेत उत्तर प्रदेश के कई शहरों से माडयूल खुरासन के संदिग्ध आतंकियों को पकड़ा और राजधानी के ठाकुरगंज में मुठभेड़ में एटीएस ने आतंकी सैफुल्लाह को मार गिराया था। पकड़े गए संदिग्ध इसी गिरोह के सदस्य बताये जा रहे हैं। 

अधिक राज्य की खबरें