पाकिस्तान के आतंकवाद-रोधी विभाग सीटीडी ने पेशावर पुलिस लाइन की मस्जिद में हुए विस्फोट की साजिश का हुआ बड़ा खुलासा
फाइल फोटो


पाकिस्तान के आतंकवाद-रोधी विभाग (सीटीडी) ने पेशावर पुलिस लाइन में हुए विस्फोट की साजिश का खुलासा किया है। सीटीडी ने बताया कि जनवरी में पेशावर के पुलिस लाइन इलाके में स्थित मस्जिद में हुए आतंकी हमले की घटना के पीछे तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) के जमातुल अहरार समूह का हाथ है।

अहरार समूह ने रची थी साजिश-

एआरवाई न्यूज की रिपोर्ट ने सीटीडी के हवाले से बताया कि पेशावर पुलिस लाइन्स विस्फोट की योजना अफगानिस्तान में बनाई गई थी।

टीटीपी के अहरार समूह ने इस घटना को अंजाम दिया था। गौरतलब है कि पेशावर के पुलिस लाइन इलाके में 30 जनवरी को ज़ुहर की नमाज़ के दौरान एक मस्जिद में घातक विस्फोट हुआ था।

हमले में हुई थी 84 की मौत, 235 घायल-

मस्जिद में हुए आतंकी हमले में 84 लोग मारे गए थे। तो वहीं 235 अन्य लोग घायल हो गए थे। जिनमें ज्यादातर पुलिस अधिकारी थे।
सीटीडी पेशावर के अतिरिक्त आईजी शौकत अब्बास ने एक संवाददाता सम्मेलन किया था। जहां आईजी शौकत अब्बास ने कहा कि पेशावर विस्फोट के मास्टरमाइंड का पता लगा लिया गया है।

गफ्फार उर्फ ​​सलमान था मास्टरमाइंड-

आईजी ने बताया कि पेशावर के पुलिस लाइन इलाके में हुए हमले के पीछे गफ्फार उर्फ ​​सलमान आत्मघाती हमले का मास्टरमाइंड था। वह भी आत्मघाती हमलावर कारी के संपर्क में था।

CTD अधिकारी ने कहा कि उन्होंने सूत्रधार के नाम का भी पता लगा लिया है। लेकिन सुरक्षा मुद्दों के कारण उसका नाम नहीं बताया जा सकता है। आईजी शौकत अब्बास के अनुसार, CTD ने इम्तियाज नाम के अन्य आतंकवादी को भी गिरफ्तार किया है।

आरोपियों को पकड़ने के लिए की गई थी इनामों की घोषणा-

वह भी पेशावर लाइन्स इलाके में हुए विस्फोट की घटना में शामिल था। इम्तियाज नाम के अन्य आतंकवादी को अफगानिस्तान के कुंदुज प्रांत में ट्रेनिंग दी जा रही थी।
पेशावर सीटीडी ने पहले पेशावर की पुलिस लाइन में मस्जिद में खुद को उड़ाने वाले बम हमलावर और उसके मददगारों के बारे में जानकारी देने वाले को 10 मिलियन पाकिस्तानी रुपये (पीकेआर) इनाम देने की घोषणा की थी।

अधिक विदेश की खबरें

तालिबान सरकार का महिला टीवी एंकरों को चेतावनी, न्यूज पढ़ते समय सिर्फ दिखनी चाहिए आंखें, चेहरा नहीं 

तालिबान सरकार का महिला टीवी एंकरों को चेतावनी, न्यूज पढ़ते समय सिर्फ दिखनी चाहिए आंखें, चेहरा नहीं ..

अफगानिस्तान में तालिबान प्रशासन ने एक नया तालिबानी फरमान जारी किया है. इस बार इस तालिबानी फरमान ......