घरों का माहौल भी ऐसा होता था कि कि एक बर्तन में गौरैया के लिए पानी का इंतजाम करना लोग नहीं भूलते थे।