ज़करबर्ग के इस बयान के बाद एक बार फिर फेसबुक पर डेटा प्रिवेसी को लेकर नए सवाल खड़े हो गए हैं।