राजस्थान हाई कोर्ट में दो साल तक केस लड़ना पड़ा, तब जाकर सफलता मिली।