बड़ा खुलासा! PF के 6.25 करोड़ रुपये डकार गई कंपनियां, ऐसे चेक करें अपना PF बैलेंस!
File Photo


देश की कई बड़ी कंपनियां कर्मचारियों के पीएफ का 6.25 हजार करोड़ रुपये डकार गई हैं. ये खुलासा ईपीएफओ की सालाना रिपोर्ट में हुआ है. सीएनबीसी-आवाज़ को सूत्रों से मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक इस रिपोर्ट में कर्मचारियों के पीएफ का पैसा ना जमा करने वाले कंपनियों में पब्लिक और प्राइवेट सेक्टर के कई बड़े नाम भी शामिल हैं.

जानिए क्या है पूरा मामला...

सूत्रों के मुताबिक इस रिपोर्ट से पता चलता है कि ईपीएफओ में 6.25 हजार करोड़ का डिफॉल्ट हुआ है. 1539 सरकारी कंपनियों ने 1360 करोड़ रुपये नहीं जमा किये जबकि प्राइवेट कंपनियों ने 4651 करोड़ रुपये नहीं जमा किए. घपलेबाजों में प्राइवेट और पीएसयू के कई बड़े नाम शामिल हैं. अब सवला उठता है कि नौकरीपेशा कैसे अपने पीएफ में जमा पैसे की जानकारी ले सकता है. 

आइए जानते है इसके 7 तरीके...

(1) ईपीएफओ की मिस्ड कॉल सर्विस मोबाइल के जरिए ईपीएफ बैलेंस जांचने के लिए ईपीएफओ विभाग ने एक ऐप लॉन्च किया है और यह मिस कॉल सर्विस से जुड़ा हुआ है. मानके चलिए कि ईपीएफओ विभाग की पीएफ बैलेंस जांचने की यह सर्विस सबसे आसान है. इसके लिए आपको रजिस्टर्ड नंबर से तय नंबर पर एक मिस कॉल देना होता है और कुछ ही मिनट में आपके मोबाइल पर जानकारी आती है. जिसमें आपका नाम, जन्मदिन, यूएएन, केवाईसी स्टेटस, पिछली जमा कराई गई रकम और पीएफ बैलेंस दिया जाता है. यह सर्विस पूरी तरह से नि:शुल्क यानी फ्री है. इसके लिए 011-2290-1406 नंबर पर मिस कॉल देनी है और 2 रिंग के बाद कॉल अपने आप कट जाता है.

(2) ईपीएफओ की मोबाइल ऐप मिस कॉल सर्विस के अलावा ईपीएफओ विभाग ने अपना मोबाइल ऐप लॉन्च किया है जिसके जरिए आप अपना ईपीएफ बैलेंस पता कर सकते हैं और यहां पर यूएएन को एक्टिवेट भी कर सकते हैं. इस ऐप को एंप्लॉयर और पेंशनर भी इस्तेमाल कर सकते हैं. इस ऐप को ईपीएफओ विभाग की साइट से डाउनलोड किया जा सकता है. गूगल प्ले स्टोर पर भी यह ऐप मौजूद है. यह पर पीएफ बैलेंस चेक करने के लिए यूएएन नंबर और रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर की जरूरत होती है. इस सुविधा का लाभ वही खाताधारक उठा सकते हैं जिन्होंने अपने यूएएन नंबर को एक्टिवेट कर रखा है. बड़ा फायदा ये है कि अगर आपने अपना यूएएन नंबर एक्टिवेट नहीं किया है तब इस ऐप के जरिए भी यह काम कर सकते हैं.

(3) एसएमएस के जरिए जानें अपना ईपीएफ बैलेंस ऊपर बताए गए तरीकों के अलावा आप अपने मोबाइल से एक एसएमएस भेज कर भी पीएफ बैलेंस जांच सकते हैं. यह मैसेज भी मिस कॉल सर्विस की तरह ही आता है. इस सेवा के जरिए आपको अपनी भाषा में यह सुविधा उपलब्ध हो सकती है. इस सुविधा का प्रयोग तब ज्यादा कारगर महसूस होता है जब आप अपने फोन से कॉल करने में सक्षम नहीं होते हैं. एसएमएस एक तय फॉर्मेट में भेजा जाना चाहिए. यह फॉर्मेट है EPFOHO UAN ENG और यह 7738 299 899 नंबर पर भेजा जाना चाहिए.

(4) यूएएन नंबर के जरिए जांच सकते हैं पीएफ बैलेंस यूनिवर्सल अकाउंट नंबर या यूएएन नंबर वो है जो विभाग हर उस सरकारी या गैरसरकारी कर्मचारी को देता जो विभाग में अपने को रजिस्टर कराता है. निजी क्षेत्र में अकसर लोग जल्द तरक्की करने के लिए नौकरी बदल लेते हैं और ऐसे में पीएफ अकाउंट नंबर भी पहले बदलता रहता था. अब इसे दिक्कत को दूर करने के लिए यूएएन नंबर जारी करने लगे हैं जिससे नौकरी बदलने के साथ पीएफ अकाउंट का नंबर भले ही बदल जाए पर यूएएन नंबर बदलता नहीं है. और इसी नंबर पर नया खाता भी जुड़ जाता है. विभाग की योजना है कि इस नंबर के जरिए कर्मचारी भविष्य में अपने खाते को आराम से चला सकें और जरूरत पड़ने पर अपना ट्रांजैक्शन ऑनलाइन भी कर पाएं.

(5) यूएएन का सबसे बड़ा फायदा है कि आप इसके जरिए पीएफ अकाउंट का सही बैलेंस कभी भी जांच सकते हैं. एक बार अपना यूएएन नंबर एक्टिवेट करने के बाद आप हर माह अपने ईपीएफ बैलेंस का अपडेट ले सकते हैं. हर महीने आपको एसएमएस अलर्ट भी आएगा जब आपके खाते में कंपनी की ओर से पैसे डाले जाएंगे. यह ऑटोमेटेड प्रोसेस के जरिए होता है और इसके लिए आपको ऑनलाइन जाने की भी जरूरत नहीं है.

(6) यूएएन के जरिए अपनी पीएफ की पासबुक भी डाउनलोड करें यूएएन की कई सुविधाओं में एक है ईपीएफ की पासबुक सेवा डाउनलोड करना. यह सर्विस सभी खाताधारकों को मिलती है. आप जब चाहें अपनी इच्छानुसार ऑनलाइन अपने अकाउंट से अपडेटेड पासबुक डाउनलोड कर सकते हैं. यह पासबुक काफी विस्तार में जानकारी के साथ आती है और इसमें आपके एंप्लॉयर के द्वारा आपके पीएफ खाते में डाले गए पैसे की जानकारी भी होती है. इसके साथ ही, कर्मचारी पेंशन योजना के तहत आपके खाते में डाले गए पैसों के बारे में भी सूचना अपडेटेड रहती है. यह एक तरह से देखा जाए बैंक की पासबुक की तरह ही है जहां पर आपके खाते से जुड़े हर लेन-देन का बही-खाता दर्ज होता है. क्योंकि अब यूएएन के जरिए ऑनलाइन डिटेल्स मिल सकती तो यह लगभग हर समय अपडेटेड रहती है और हमें विभाग की गतिविधियां पता चलती रहती हैं. इसका फायदा लेने के लिए हमारा यूएएन नंबर एक्टिवेटेड होना चाहिए. इसके बाद आप अपने खाते में जाकर इस सुविधा का लाभ ले सकते हैं.

(7) ईपीएफ बैलेंस ऑनलाइन तरीके से भी जान सकते हैं ईपीएफ बैलेंस जांचने का यह पुराना तरीका है, लेकिन गूगल पर सर्च करने पर यह अब भी मिल जाता है. इसमें आपको केवल अपना पीएफ नंबर देना होता है और अपना मोबाइल नंबर डालना होता है. मोबाइल पर पीएफ बैलेंस आ जाता है. इस विकल्प के जरिए पहले आपको पहले अपने ईपीएफओ ऑफिस की जानकारी होनी चाहिए जहां पर आपका अकाउंट है. वहां पर जाने के बाद पीएफ अकाउंट नंबर देना होता है. मोबाइल नंबर देना होगा. प्रोसेस पूरा होने के बाद आपके रजिस्टर्ड मोबाइल पर एसएमएस के जरिए डिटेल आ जाएगी.


अधिक बिज़नेस की खबरें