टैग:Divine Powers#,Dangerous#
दैवीय शक्तियों से दुष्टों का होता है  दलन: शास्त्री
श्री 108 बाल ब्रह्मचारी मिशन के परमाध्यक्ष ऋषि रामकृष्ण महाराज ने कहा है


हरिद्वार: श्री 108 बाल ब्रह्मचारी मिशन के परमाध्यक्ष ऋषि रामकृष्ण महाराज ने कहा है कि दैवीय शक्तियों से दुष्टों का दलन होता है। देवीभागवत देवता और भगवान की कथा है जिसमें देवताओं की स्तुति पर भगवती ने राक्षसों का वध कर संसार से विषमता एवं विध्वंस करने वालों का सफाया किया। 


वे मंगलवार को खड़खड़ी स्थित निर्धन निकेतन में व्यास पूजा महोत्सव के उपलक्ष में आयोजित श्रीमद देवीभागवत में उपस्थित भक्तों को आशीर्वचन दे रहे थे। कथा व्यास सत्यराज शास्त्री ने मधु एवं कैटभ का वृतान्त सुनाते हुए कहा कि दोनों की उत्पत्ति भगवान के कानों से हुई थी और उन्होंने जब भगवती की तपस्या की तो इच्छा मृत्यु का वरदान प्राप्त किया तो उनके अन्दर अहंकार आ गया। 

सृष्टि के विधान एवं कार्य की शुद्धता को बलवान बताते हुए कहा कि जब कोई व्यक्ति किसी वरदान का दुरुपयोग करता है तो वरदान की शक्ति स्वतः ही समाप्त हो जाती है और उसके अहंकार को समाप्त करने के लिए नया विधान तैयार हो जाता है। उन्होंने ब्रह्महत्या के समान सात पापों का वर्णन करते हुए कहा कि व्यक्ति का कर्म और आचरण शुद्ध रहे धर्म शास्त्रों से यही शिक्षा मिलती है।  


अधिक धर्म कर्म की खबरें