मैं 43 फिल्म पुराना हूं और मुझे अभी लंबा सफर तय करना है - सुदेश बेरी
File Photo


मूल रूप से आप कहाँ से संबंध रखते हैं ? 

मूल रूप से मैं पंजाब से हूँ. मैं उत्तर भारतीय हूँ. हालाँकि मैं बॉम्बे में पैदा हुआ और यहीं बड़ा हुआ. विभाजन के बाद मेरे पूर्वज मुंबई चले आए. 


मुस्कान में अपने किरदार के बारे में कुछ बताइए ?

मुझे शो में 'सरजी' के रूप में जाना जाएगा. मेरे किरदार को अब तक नाम नहीं दिया गया है. मैं शो में दिखाए गए वेश्यालय का मालिक हूँ. मैं नकारात्मक किरदार के रूप में दिखूँगा जो उस समय फैसला करेगा जब उसे पता चलता है कि 'मुस्कान' नाम की एक लड़की घर में छिपी हुई है.
 
शो को लेकर आपके क्या विचार हैं ?

शो का कंटेंट कमाल का है जो अच्छे बदलाव के लिए समाज के दोहरे मापदंड को दिखाता है. महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने के लिए शो के कंटेंट में नाचने वाली महिलाओं के जीवन और उनके पेशे पर खास फोकस किया गया है. कोई पेशा अच्छा या बुरा नहीं होता. मुझे लगता है कि शो को अच्छा रिस्पॉंस मिल रहा है और कंटेंट के मामले में दमदार है. 


आप किस तरह का रोल करना पसंद करते हैं ? 

मैं पेशेवर और जुनूनी तौर पर एक कलाकार हूँ. और एक कलाकार चुनने वाला नहीं हो सकता. मेरे पास जो भी किरदार आते हैं उसमें मैं ढ़ल जाता हूँ. और मैं उतना अभिनय करना चाहूंगा जितना मैं कर सकता हूँ. हम सीखने और नए अनुभव के लिए कभी बूढ़े नहीं होते.


आपके द्वारा निभाया गया बेस्ट किरदार कौन है ?

सभी किरदार मेरे दिल के करीब हैं. और भगवान के आशीर्वाद से दर्शकों ने सभी पात्रों को बहुत पसंद किया है. 'वंश'  नाम की एक फिल्म में मैं सनी देओल के दोस्त का किरदार निभा रहा था, मुझे वह किरदार बहुत पसंद है. 1998 में 'सुराग' में मैंने इंस्पेक्टर भारत के किरदार का लुत्फ उठाया. मैं 43 फिल्म पुराना हूँ और मुझे अभी लंबा सफर तय करना है. बिग बी (अमिताभ बच्चन) मेरी प्रेरणा हैं.


आपके जीवन का सबसे बड़ा टर्निंग प्वाइंट क्या है ?

सबसे बड़ा टर्निंग प्वाइंट वह था जब मुझे 1992 में अपनी फिल्म 'वंश' के बाद हीरो के रूप में लॉन्च किया गया था, उसके बाद मेरे बारे में चर्चा होने लगी थी. लेकिन मैं अभी भी अपने जीवन में होने वाले सबसे बड़ा टर्निंग प्वाइंट का इंतजार कर रहा हूँ.


अधिक मनोरंजन की खबरें