स्टडी में खुलासा : दोपहर 12 से 2 बजे की धूप है खतरनाक
सूरज की रोशनी में सबसे ज्यादा UV किरण (अल्ट्रावायलट) इसी समय ऐक्टिव होती हैं।


नई दिल्ली : दिन में 12 से 2 बजे की धूप सबसे खतरनाक होती है। सूरज की रोशनी में सबसे ज्यादा UV किरण (अल्ट्रावायलट) इसी समय ऐक्टिव होती हैं। एम्स के आर पी सेंटर की डॉ राधिका टंडन का कहना है कि सूरज की किरणों का सबसे ज्यादा एक्सपोजर इसी समय होता है, इससे भले बॉडी को विटमिन डी का डोज मिलता हो, लेकिन आखों में ड्राईनेस और ऐलर्जी होने का खतरा भी सबसे ज्यादा रहता है। उन्होंने कहा कि पलूशन की वजह से भी आंखों में ऐलर्जी और ड्राइनेस हो रही है, एक स्टडी से इसका खुलासा हुआ है।

डॉ राधिका ने बताया कि ICMR के फंड से साल 2010 से लेकर 2015 के बीच 11 हजार मरीजों पर यह स्टडी की गई थी। इसमें दिल्ली-NCR में गुड़गांव के एक रूरल एरिया को शामिल किया गया था, जबकि एक नॉर्थ ईस्ट का पहाड़ी इलाका था और तीसरा आंध्र प्रदेश का कोस्टल एरिया। कोस्टल एरिया में सबसे ज्यादा यूवी किरणें पायीं गईं लेकिन दिल्ली में सबसे ज्यादा पलूशन लेवल पाया गया। 

तुलनात्मक स्टडी में पाया गया कि दिल्ली के लोगों की आंखों में ड्राइनेस (22.7 पर्सेंट) और ऐलर्जी बाकी दोनों इलाकों की तुलना में बहुत ज्यादा है। इसमें कोई दो राय नहीं है कि सबसे ज्यादा कैटरैक्ट की बीमारी उम्र की वजह से होती है। ज्यों-ज्यों उम्र बढ़ती है, त्यों-त्यों इसका खतरा बढ़ता है। लेकिन यह यूवी किरणों की वजह से भी होता है और इसमें पलूशन भी शामिल है। 

अधिक सेहत/एजुकेशन की खबरें