चीन की वो एजेंसी जिसने गायब कर दिया दुनिया का सबसे ताकतवर पुलिस अफसर
File Photo


बीजिंग, चीन की नंबर एक एक्ट्रेस फैन बिंगबिंग की लंबी गुमनामी से वापसी हुई ही थी कि अब ख़बर आई है कि मेंग होंगवेई को चीनी सरकार ने कैद कर लिया है. होंगवेई कोई साधारण इंसान नहीं हैं. रविवार तक वे इंटरपोल के चीफ थे. इंटरपोल एक ऐसी एजेंसी है जो दुनिया के 192 देशों की कानून व्यवस्था से जुड़ी एजेंसियों के बीच एक पुल की तरह से काम करती है. ऐसे में दुनिया भर में चीन के इस कदम की आलोचना हो रही है.

कौन हैं मेंग होंगवेई?
रविवार को इस्तीफा देने से पहले मेंग होंगवेई इंटरपोल के प्रेसिडेंट थे. इससे पहले मेंग होंगवेई चीनी इंटरपोल के प्रेसिडेंट रह चुके हैं. उन्हें नवंबर, 2016 में इंटरनेशनल इंटरपोल का प्रेसिडेंट बनाया गया था. वे ऐसे पहले चीनी थे, जिन्हें यह पद मिला था. इंटरपोल का ऑफिस फ्रांस के लियोन शहर में है. यहीं वे अपनी पत्नी और बच्चों के साथ रह रहे थे. चीन में मेंग जिस पद पर थे, चीन की सीक्रेट पुलिस उनके अंडर थी. जब 2016 में उनका इंटरपोल के चीफ के रूप में चयन हुआ था तो बीजिंग में इस बात की खुशियां मनाई गई थीं. चीन में इस चयन को चीन के गड़बड़ियों से भरे क्रिमिनल जस्टिस सिस्टम के प्रति दुनिया में बढ़ते सम्मान के तौर पर देखा गया था.

हालांकि अप्रैल में चीनी मिनिस्ट्री ने एक रिपोर्ट में यह साफ किया था कि मेंग होंगवेई अब चीनी कम्युनिस्ट पार्टी कमेटी के सदस्य नहीं रह गए हैं. यह एक ऐसा कदम था जिसके बाद दुनिया भर के सुरक्षा जानकार यह अनुमान लगाने लगे थे कि मेंग होंगवेई जल्द ही मुसीबत में पड़ सकते हैं.

फिलहाल मेंग होंगवेई करीब 12 दिन से गायब हैं. उनके गायब होने का कहीं कोई सुराग नहीं है. मेंग होंगवेई गायब हुए तब, जब वे अपने देश चीन लौटे थे. द गार्जियन की एक रिपोर्ट के अनुसार वे 25 सितंबर को चीन पहुंचे थे. मेंग होंगवेई के पत्नी और बच्चों को फ्रांस की सिक्योरिटी में रखा गया है. उनकी पत्नी ने हाल में की अपनी प्रेस कांफ्रेस में अपना चेहरा नहीं दिखाया. उन्होंने रिपोर्टरों की ओर पीठ करके उनसे बात की.

फ्रांस के गृह मंत्रालय के अनुसार मेंग के गायब होने की ख़बर सबसे पहले उनकी पत्नी ने ही दी थी. उन्होंने पुलिस से बताया कि 10 दिन पहले उन्होंने मेंग से आखिरी बार बात की थी. उन्होंने यह खुलासा भी किया कि उन्हें सोशल मीडिया और फोन पर धमकी भी दी जा रही थी. मेंग के साथ अपने आखिरी कांटैक्ट के बारे में उनकी पत्नी ने बताया कि मेंग ने उन्हें आखिरी बार वाट्सएप पर एक मैसेज किया था. जिसमें उन्होंने लिखा था कि वे (उनके) फोन का इंतजार करें. जिसके बाद उन्होंने एक चाकू भेजा और इसके बाद उनसे कोई संपर्क नहीं है.

इंटरपोल इस मामले में क्या-क्या कर रहा है?
इंटरपोल की ओर से किए गए ट्वीट में बताया गया है कि उन्हें मेंग होंगवेई की ओर से उसे इस्तीफा मिला है. इसमें उन्होंने तत्काल प्रभाव से अपने पद से इस्तीफा की बात कही है. इंटरपोल के इस ट्वीट में न मेंग के वर्तमान में कहीं होने की जानकारी दी गई है और न ही उनके अचानक से गायब होने पर कोई बात की गई है.

इंटरपोल के सेक्रेटरी जनरल जर्गन स्टॉक ने इस मामले में शनिवार को एक ट्वीट में कहा, "इंटरपोल ने ऑफिशियल लॉ इंफोर्समेंट चैनलों के जरिए चीन से गुजारिश की है कि वे इंटरपोल के प्रेसीडेंट मेंग होंगवेई के बारे में अपनी स्थिति साफ करें."

चीन की वो एजेंसी जो कर रही है लोगों को गायब
शी जिनपिंग के दिल के सबसे करीबी प्रोजेक्ट में से एक रही है चीन की 'एंटी करप्शन इन्वेस्टिगेशन एजेंसी'. शी करप्शन के बेहद खिलाफ हैं और इसके साथ ही साथ वे चीन में एक नैतिक अनुशासन भी लागू करना चाहते हैं. फैन बिंगबिंग की कैद को आर्थिक कारणों के साथ ही एक नैतिक कारण के तौर पर भी देखा जा रहा था क्योंकि चीनी कम्युनिस्ट पार्टी कहती आई है कि चीनी एंटरटेनमेंट के पश्चिमी संस्कृति को फॉलो करने के चलते चीन की नैतिक संस्कृति को नुकसान हुआ है.

ऐसे में चीन इस एजेंसी के पास किसी को गड़बड़ी के आरोपों में गिरफ्तार करने के असीमित अधिकार हैं. इस एजेंसी को इसी साल की शुरुआत में स्थापित किया गया था.

चीन की नंबर एक अभिनेत्री फैन बिंगबिंग को भी इसी एजेंसी ने पूछताछ के लिए गिरफ्तार किया था. फिलहाल फैन बिंगबिंग वापस आ चुकी हैं और उन्होंने कर चोरी की बात स्वीकार कर ली है. साथ ही उन्होंने कैद से आजाद होने के बाद चीनी सरकार से बड़ा जुर्माना भरने का वादा भी किया है.

मेंग होंगवेई के मामले की बात करें तो रविवार को हांगकांग बेस्ड अखबार साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट ने एक सूत्र के मुताबिक बताया, "चीन मेंग होंगवेई की जांच कर रहा है. 64 साल के मेंग होंगवेई जो कि 'चीन की मिनिस्ट्री ऑफ पब्लिक सिक्योरिटी के वाइस प्रेसिडेंट भी हैं' को डिसिप्लीन अथॉरिटी पूछताछ के लिए ले गई है. जैसे ही वे चीन में दाखिल हुए वैसे ही उन्हें कैद कर लिया गया था." साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट के बारे में कहा जाता है कि इसके सूत्र चीनी सरकार में काम करने वाले अधिकारी हैं.

रविवार को चीन की कम्युनिस्ट पार्टी ने भी एक बयान में कहा गया, "मेंग एक राष्ट्रीय निगरानी कमीशन की नई एंटी करप्शन यूनिट में (कैद में) निगरानी और जांच के लिए हैं. उनपर राज्य के कानूनों के गंभीर उल्लंघन का आरोप है." इसमें उनकी आगे की गिरफ्तारी और कैद के बारे में न ही कोई जानकारी दी गई है और न ही कोई कारण बताया गया है.

चीन के एक्सपर्ट्स क्या कहते हैं?
न्यूयॉर्क टाइम्स के साथ बात करते हुए 'कम्युनिस्ट पार्टी जर्नल' के पूर्व एडिटर डेंग यूवेन ने कहा था, "अगर मेंग होंगवेई चीन में गायब हुए हैं तो इसके पीछे सबसे ज्यादा एंटीकरप्शन जांच चलने की संभावना हो सकती है. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तो वे इंटरपोल के प्रेसिडेंट हैं लेकिन चीनी अथॉरिटी की नज़रों में वे सबसे पहले एक चीनी नागरिक हैं. और चीनी अथॉरिटी उनकी अंतरराष्ट्रीय ख्याति के बारे में ज्यादा नहीं सोच रही होगी. उन्होंने यह भी कहा कि चीन के लिए यह अब आम बात है."

साउथ चाइना मार्निंग पोस्ट अखबार ने चीन के एक पॉलिटिकल कमेंटेटर झांग लिफान ने कहा है, "मैं समझता हूं कुछ तत्काल घटना जरूर हुई होगी. इसीलिये (अथॉरिटी ने) ऐसा तत्काल एक्शन लेने का फैसला किया, जबकि इससे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी प्रतिष्ठा खोने की संभावना है."

अखबार में यह भी बताया गया है कि चीनी कानून के मुताबिक किसी भी संदिग्ध को कैद किए जाने के 24 घंटों के अंदर उसके परिवार और इंप्लॉयर को इसकी जानकारी देना जरूरी होता है. इस कानून में तभी कोई बदलाव हो सकता है जब ऐसा करने से जांच में अड़चन आने की संभावना हो.

अधिक विदेश की खबरें