चीन को ध्यान में रखकर परमाणु हथियार बना रहा भारत: US एक्सपर्ट्स
भारत के पास 150 से 200 न्यूक्लियर वॉरहेड बनाने के लिए पर्याप्त मात्रा में प्लूटोनियम है लेकिन संभवत: उसने 120 से 130 वॉरहेड का ही निर्माण किया है।


वॉशिंगटन : अमेरिका के दो वरिष्ठ परमाणु विशेषज्ञों की मानें तो भारत चीन को ध्यान में रखते हुए अपने परमाणु हथियारों और देश की परमाणु रणनीति का लगातार आधुनिकीकरण कर रहा है। पहले भारत का ध्यान पाकिस्तान पर केन्द्रित था लेकिन अब ऐसा लगता है कि नई दिल्ली का जोर इस कम्युनिस्ट देश की ओर ज्यादा है। ऑनलाइन मैगजीन 'आफटर मिडनाइट' के जुलाई-अगस्त एडिशन में छपे लेख में यह भी दावा किया गया है कि भारत अब एक ऐसी मिसाइल बना रहा है जोकि दक्षिण भारत के अपने बेस से पूरे चीन को निशाना बना सकती है। 

'इंडियन न्यूक्लियर फोर्स 2017' शीर्षक वाले अपने लेख में हेंस एम क्रिस्टिनसन और रॉबर्ट एस नॉरिस ने लिखा है, 'अनुमान के मुताबिक भारत के पास 150 से 200 न्यूक्लियर वॉरहेड बनाने के लिए पर्याप्त मात्रा में प्लूटोनियम है लेकिन संभवत: उसने 120 से 130 वॉरहेड का ही निर्माण किया है। दोनों विशेषज्ञों ने दावा किया है कि परंपरागत रूप से पाकिस्तान पर आधारित भारत की परमाणु रणनीति में अब चीन पर ज्यादा जोर दिया जाने लगा है। 

नए मिसाइल सिस्टम विकसित करने पर जोर
लेख में कहा गया है कि भारत का ध्यान पारंपरिक रूप से पाकिस्तान से अपनी सुरक्षा के लिए परमाणु हथियार विकसित करने पर रहा है, लेकिन उसका परमाणु आधुनिकीकरण इसका संकेत है कि वह चीन के साथ भविष्य के सामरिक संबंधों पर ज्यादा ध्यान दे रहा है। विशेषज्ञों का अनुमान है कि भारत के पास 7 परमाणु सक्षम प्रणाली हैं। इनमें विमान से संचालित होने वाली 2, जमीन से संचालित होने वाली 4 और समुद्र से मार करने में सक्षम एक बलिस्टिक मिसाइल सिस्टम हैं। लेख में कहा है कि कम से कम 4 और प्रणालियों पर काम चल रहा है और उन्हें तेजी से विकसित किया जा रहा है। उनके अगले दशक तक तैनात होने की संभावना है।

अधिक विदेश की खबरें

ट्रम्प की इस खूबसूरत बेटी के पहले भारत आगमन पर स्वागत के लिए आएंगे विदेशी फूल, हर डिश के लिए अलग शेफ..

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप हैदराबाद में होने जा रहे ग्लोबल इकनॉमिक समिट में ......