बड़ौदा में मेनका गांधी ने आंबेडकर पर चढ़ाए फूल तो दलितों ने दूध से धोई प्रतिमा
दलित कार्यकर्ताओं का कहना था कि बीजेपी नेताओं की मौजूदगी से वहां का माहौल दूषित हो गया था।


बड़ौदा : डॉ. भीमराव रामजी आंबेडकर की जयंती (14 अप्रैल) पर केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने बड़ौदा में आंबेडकर की मूर्ति पर फूल चढ़ाए। उनके जाते ही दलित कार्यकर्ताओं ने आंबेडकर की मूर्ति तुरंत दूध से धोकर उसे साफ की। दलित कार्यकर्ताओं का कहना था कि बीजेपी नेताओं की मौजूदगी से वहां का माहौल दूषित हो गया था।

आंबेडकर जयंती पर शनिवार को केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी गुजरात पहुंची थीं। यहां वह रेस कोर्स पर मौजूद जीईबी सर्किल इलाके के एक कार्यक्रम में सम्मलित हुईं। उसके बाद वह बीजेपी सांसद सांसद रंजनबेन भट्ट, महापौर भरत डांगर, बीजेपी विधायक योगेश पटेल और अन्य बीजेपी के नेताओं के साथ आंबेडकर की प्रतिमा पर पहुंचीं। वहां उन्होंने प्रतिमा पर फूल चढ़ाए। 

नारेबाजी और हंगामा 
इस दौरान बड़ौदा की महाराजा सयाजीराव यूनिवर्सिटी के एससी-एसटी कर्मचारी संघ के महासचिव ठाकोर सोलंकी ने कहा कि वे लोग आंबेडकर को श्रद्धांजलि देने बीजेपी नेताओं से पहले पहुंचे थे, लेकिन उन लोगों ने प्रतिमा पर पहले फूल चढ़ाए। इस पर उन लोगों ने वहां नारेबाजी करनी शुरू कर दी। 

इसी हंगामे के बीच मेनका गांधी ने आंबेडकर प्रतिमा पर फूल चढ़ाए और वहां से निकल गईं। उनके जाते ही दलित कार्यकर्ताओं ने दूध मंगवाया और दूसरे बीजेपी नेताओं की मौजूदगी में आंबेडकर प्रतिमा को दूध से धुला। उसके बाद प्रतिमा को पानी से साफ किया। 

दलित कार्यकर्ताओं ने कहा कि मेनका गांधी और अन्य बीजेपी नेताओं के पहुंचने के बाद जीईबी सर्किल इलाके में आंबेडकर की प्रतिमा और प्रतिमा के आसपास का माहौल दूषित हो गया, इसलिए उन्होंने उसकी पानी और दूध से धुलाई की। 


अधिक देश की खबरें