त्रिपुरा चुनाव 2018 : वोटिंग जारी, अपनी बारी के लिए कतार में लगे लोग, लेफ्ट और भाजपा में टक्कर
ripura Election


नई दिल्ली, त्रिपुरा में आज (रविवार) को सुबह सात बजे से विधानसभा सीटों के लिए वोटिंग जारी है। पोलिंग बूथ पर सुबह से ही वोटरों की लंबी लाइन दिख रही है। शाम 4 बजे तक वोटर अपना वोट डाल सकते हैं। विधानसभा चुनाव में पहली बार भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) सत्तारूढ़ वाम दल के सामने प्रमुख दावेदारी पेश कर रही है। वाम दल पिछले 25 सालों से राज्य में सत्ता पर काबिज है। राज्य में अनुसूचित जनजातियों के लिए 20 सीटें आरक्षित हैं।

60 में से 59 सीटों पर हो रही वोटिंग 

त्रिपुरा में रविवार को 60 में से 59 सीटों पर चुनाव हो रहे हैं। सीपीएम प्रत्याशी रामेंद्र नारायण के निधन के कारण चारीलाम विधानसभा सीट पर अब 12 मार्च को मतदान होगा।

अपडेटेस
8.30 AM:  त्रिपुरा बीजेपी अध्यक्ष बिपलब कुमार देब ने उदयपुर में डाला वोट, कहा- नतीजे ऐतिहासिक होंगे और हम जीतेंगे
8.00 AM: अपनी बारी के लिए करा में लगे लोग

इस बार के चुनाव में कुल 292 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। हालांकि 22 दागी और 35 करोड़पति उम्मीदवार भी चुनाव लड़ रहे हैं। राज्य में 25 लाख वोटर हैं जिसमें से 70% बंगाली और अन्य 30% आदिवासी हैं। साल 2013 के विधानसभा चुनाव में सीपीएम को 49 और कांग्रेस को 10 सीट मिली थी। एक सीट निर्दलीय उम्मीदवार ने जीता था। माणिक सरकार पिछली चार बार से राज्य के मुख्यमंत्री हैं। सरकार देश के सबसे गरीब मुख्यमंत्री के तौर पर मशहूर हैं।

मुख्य चुनाव अधिकारी श्रीराम तरणीकांति ने कहा है कि चुनाव अधिकारियों और राज्य पुलिस बल के जवानों समेत सुरक्षाबलों ने चुनाव को निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण तरीके से कराये जाने के सभी उपाय किये हैं। उन्होंने कहा,'हम यह सुनिश्चित करेंगे कि चुनाव स्वतंत्र एवं निष्पक्ष तरीके से हो। 

पुलिस, केन्द्रीय बल और सभी हितधारकों, खासकर  नागरिक, राजनीतिक दलों एवं प्रेस के सहयोग से ही यह संभव है।' उन्होंने कहा कि चुनाव के दौरान अथवा चुनाव के बाद किसी तरह की हिंसा की आशंका नहीं है।
मतों की गिनती तीन मार्च को होगी। राज्य में 25 साल से माकपा की सरकार है। इस बार के चुनाव में भाजपा सत्तारूढ़ दल को कड़ी टक्कर दे रही है। 

निवार्चन आयोग ने विधानसभा चुनाव के मद्देनजर 3174 मतदान केंद्रों पर 16 हजार चुनावकर्मियों को सुरक्षा बलों के 2० हजार जवानों के साथ तैनात किया है। विधानसभा चुनाव में राज्य के 25.37 लाख मतदाता विभिन्न दलों के 292 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे। 

इनमें 13 लाख पुरुष और 12 लाख महिलाएं मतदाता शामिल हैं। चुनाव आयोग के अनुसार 47803 मतदाता ऐसे हैं जो पहली बार मताधिकार का प्रयोग करेंगे। राज्य में कुल 3214 मतदान केंद्र बनाये गये हैं। 

मतदान व्यवस्था के लिए चार हजार सरकारी वाहनों के अलावा 22 हजार अन्य वाहनों को ड्यूटी पर लगाया है। राष्ट्रीय राजमार्ग, जिला सड़कों और गांवों की सड़कों पर सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सुरक्षा बल के जवान मार्च करेंगे। 


अधिक देश की खबरें