पहले सीटों का बंटवारा, फिर SP से गठबंधन पर फैसला : मायावती
मायावती का यह बयान वर्ष 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव के लिहाज से बेहद महत्‍वपूर्ण माना जा रहा है।


लखनऊ : कर्नाटक के चुनावी दौरे पर गईं बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने सोमवार को बेंगलुरु में कहा कि उत्तर प्रदेश में उनकी पार्टी और समाजवादी पार्टी के बीच गठबंधन की घोषणा दोनों दलों द्वारा सीटों के सामंजस्य का मसला सुलझा लिए जाने के बाद की जाएगी। मायावती का यह बयान वर्ष 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव के लिहाज से बेहद महत्‍वपूर्ण माना जा रहा है।

मायावती ने एक टीवी चैनल से बातचीत में कहा, ‘संसदीय चुनावों में अभी कुछ वक्त है। जब चुनाव निकट आएगा, तो दोनों पार्टियां सीटों को समायोजित करेंगी और फिर घोषणा करेंगे।' जब उनसे पूछा गया कि संभावित गठबंधन को लेकर क्या भारतीय जनता पार्टी ‘भयभीत’ है, उन्होंने कहा कि यह होना तो स्वाभाविक है, होने दीजिए। 

उन्होंने कहा, ‘बीजेपी और आरएसएस की सांप्रदायिक ताकतों को धर्मनिरपेक्ष ताकतों का एकजुट होकर आगे बढ़ना बिल्कुल पंसद नहीं होगा।’ मायावती कर्नाटक विधानसभा चुनाव में जेडीएस के लिए प्रचार करने पहुंची हैं। कर्नाटक में मतदान 12 मई को होना है। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि बीजेपी और कांग्रेस जैसी पार्टियां कभी भी बीएसपी पर दबाव नहीं बना सकतीं और न ही बना पाएंगी। 

बता दें, एसपी और बीएसपी ने गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनाव मिलकर लड़ा था और दोनों ही जगहों पर बीजेपी को करारी हार का सामना करना पड़ा था। हालांकि कैराना लोकसभा सीट होने जा रहे उपचुनाव में मायावती ने किसी का खुलकर समर्थन नहीं किया है। 


अधिक राज्य की खबरें