कर्नाटक की जनता सिद्धारमैया की सरकार को उखार फेंकेगी : पीएम मोदी
विजयपुरा में पीएम मोदी ने कहा-जनता ने कांग्रेस को पांच साल की कठोरतम सज़ा देने का फैसला किया है


नई दिल्ली : कर्नाटक विधानसभा चुनाव के मद्देनजर विजयपुरा में चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कांग्रेस पर हमला बोला और कहा कि कर्नाटक की जनता सिद्धारमैया की सरकार को उखार फेंकेगी. इतना ही नहीं, कांग्रेस सरकार को कठोर से कठोर सजा देगी. पीएम मोदी ने कहा कि कर्नाटक में त्रिशंकु विधानसभा नहीं होगी. साथ ही उन्होंने कहा कि कर्नाटक की जनता ने कांग्रेस को पांच साल की कठोरतम सज़ा देने का फैसला किया है. 

राहुल गांंधी और कांग्रेस पर तंज कसते हुए पीएम मोदी ने कहा कि अभी तो कांग्रेस ने सारी बातें बंद कर दी है. घर में बैठ गए हैं. दफ्तर में सोच रहे हैं कि 15 मई को कौन-कौन से बहाने बताएंगे. वे केहंगे कि ईवीएम ने हरा दिया. ईवीएम को दोष देने की अभी से योजना बना रहे हैं. 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, कर्नाटक की जनता कांग्रेस को हटाएगी, लेकिन जातिवाद का ज़हर नहीं फैलने देगी, क्योंकि कांग्रेस उन्हें बांटकर राज करने की कोशिश कर रही है. विजयापुरा भगवान बसवेश्वर की जन्मस्थली है. उन्होंने ये सिखाया कि आप कौन हैं, किस जाति से हैं, किस संप्रदाय हैं, मत-पंथ से हैं ये मत पूछो बल्कि उसे अपनाओ-गले लगाओ. किसी को दूर मत करो. सबको साथ लेकर चलो. यही संदेश दिया. 

पीएम मोदी ने कहा कि यहां सरकार ऐसी है, जो बांटो और राज करो की नीति पर चलती है. अभी तक कांग्रेस राज में यही खेल चला. उनकी कुर्सी बची रहे, लेकिन ये धरती भाई-भाई में लड़ने वाली नहीं है. कांग्रेस को हटाएगी. एक तरफ कर्नाटक सूखे की चपेट में फंसा था, किसान मारा-मार फिर रहा था, स्कूलों में शिक्षकों का अभाव था, खनन माफिया लूट रहे थे लेकिन इन्हीं तीनों विभाग के मंत्री दिल्ली के चक्कर काट रहे थे. योजना बना रहे थे जातियों को कैसे तोड़ें. कैसे एक दूसरे को लड़ाएं.

पीएम ने कहा कि मुख्यमंत्री को महापुरुषों के साथ नाता नहीं है, ये तीन मंत्री ढोल पीटते थे और दिल्ली में नामदारों के चरणों में जाकर तोड़ने की साजिश रचते रहे. ऐसे लोगों को पापों की सजा मिलनी चाहिए, एक भी ऐसा नहीं है जिस पर भ्रष्टाचार के आरोप नहीं लगे हो. यहां के सिंचाई मंत्री का कच्चा चिट्ठा हर घर तक पहुंचा है. आलमारी से नोट निकलते थे.

प्रधानमंत्री बोले ने कहा कि कांग्रेस ने अपने शासनकाल में कभी भी 'लोकतंत्र के प्रहरी' भगवान बसवेश्वर की मूर्ति लगाने पर विचार नहीं किया, अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में पहली बार भगवान बसवेश्वर की मूर्ति संसद में लगाई गई. दिल्ली में 50 साल तक कांग्रेस का राज चला, उसके बावजूद भगवान बशवेश्वर की प्रतिमा नहीं लगाई. 


अधिक देश की खबरें