टेरर फंडिंग केस: मास्टरमाइंट रमेश शाह ने ATS को बताया, पाकिस्तान भेजे जाते थे पैसे
File Photo


लखनऊ, टेरर फंडिंग मामले में पुणे से गिरफ्तार आरोपी रमेश शाह से एटीएस की पूछताछ में नए तथ्य सामने आए हैं. एटीएस की पूछताछ में पता चला है कि एजेंटों के खाते से रकम निकालकर हवाला कारोबारी पैसे पाकिस्तान भेजते थे. एटीएस ने रमेश शाह की अवैध कमाई से खरीदे गए वाहनों और सत्यम मार्ट को सीज करने की कार्रवाई शुरू कर दी है. आरोपी रमेश शाह 30 जून तक एटीएस की रिमांड में है.

यूपी और महाराष्ट्र एटीएस की टीम ने टेरर फंडिंग नेटवर्क के मास्टरमाइंड रमेश शाह को पुणे से गिरफ्तार किया था. यूपी एटीएस को 24 मार्च को गोरखपुर से गिरफ्तार आरोपियों से रमेश शाह के बारे में जानकारी मिली थी. जिसके बाद यूपी एटीएस ने महाराष्ट्र एटीएस से संपर्क किया और 19 जून को टेरर फंडिंग नेटवर्क के मास्टरमाइंड को धर दबोचा. फिलहाल रमेश शाह से पूछताछ की जा रही है.

यूपी एटीएस के मुताबिक, रमेश शाह पाकिस्तानी हैण्डलरों के निर्देश पर काम कर रहा था. रमेश देश में कई लोगों के खातों में रकम जमा करवाता था. उसके बाद खातों से कमीशन काटकर बाकी रकम पाकिस्तानी हैण्डलरों को देता था. इसी रकम का उपयोग देश विरोधी गतिविधियों में इस्तेमाल किया जाता था.


अधिक राज्य की खबरें