पूर्व NCP नेता तारिक अनवर की 19 साल बाद कांग्रेस में वापसी, लड़ सकते हैं लोकसभा चुनाव
File Photo


पांच बार बिहार के कटिहार से सांसद रह चुके तारिक अनवर ने शनिवार को कांग्रेस का दामन थाम लिया. दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने उन्हें कांग्रेस में शामिल कराया. ऐसा माना जा रहा है कि तारिक अनवर अगला लोकसभा चुनाव कांग्रेस की टिकट पर लड़ सकते हैं. माना जा रहा है कि लालू प्रसाद के सहयोग से वो महागठबंधन के उम्‍मीदवार होंगे.

एनसीपी से दिया था इस्तीफ़ा
शरद पवार का राफेल डील पर नरेंद्र मोदी का साथ देना तारिक अनवर को नागवार गुजरा था और उन्होंने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) की सदस्यता के साथ-साथ लोकसभा की सदस्यता से भी इस्तीफा दे दिया. नरेंद्र मोदी के विरोध के नाम पर शरद पवार का 19 साल पुराना साथ छोड़ने वाले तारिक अनवर ने अपने पत्ते नहीं खोले, लेकिन कांग्रेस बांहे फैलाए उनके स्वागत के लिए तैयार थी. तारिक अनवर का रिश्ता कांग्रेस से पुराना है. उन्होंने इसी पार्टी से राजनीति शुरू की थी. 1976 में वह बिहार युवा कांग्रेस के अध्यक्ष बने और 1980 में कटिहार से कांग्रेस के टिकट पर पहली बार सांसद चुने गए थे.

कांग्रेस से बीस साल पुराना साथ उन्होंने 1999 में छोड़ दिया. सोनिया गांधी के विदेशी मूल के मुद्दे पर शरद पवार, तारिक अनवर और पीए संगमा ने पार्टी छोड़ दी और एनसीपी का गठन किया. हालांकि उनका कांग्रेस विरोध ज्यादा दिन नहीं चला, क्योंकि पवार ने 2004 में यूपीए का साथ देने का फैसला किया. वैसे सच्‍चाई यह भी है कि अनवर ने पवार या संगमा के करीबी होने के कारण कांग्रेस नहीं छोड़ी थी, बल्कि सीताराम केसरी के साथ सोनिया ने जिस तरह का बर्ताव किया था, उससे अनवर आहत थे और वे सोनिया को तगड़ा झटका देना चाहते थे.

तारिक अनवर के एनसीपी छोड़ने के बाद राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव ने भी उनके फैसले का स्वागत किया था. उन्होंने कहा, तारिक बहुत ही अनुभवी नेता हैं. वह जो तय करना चाहें, कर सकते हैं. ऐसे में माना जा रहा है कि अनवर लालू प्रसाद की मदद से कटिहार से आगामी लोकसभा चुनाव लड़ेंगे. उधर कांग्रेस के नेता प्रेमचंद मिश्रा ने कहा कि तारिक अनवर कांग्रेसी ही हैं, इसलिए उनकी स्वाभाविक जगह पार्टी में है.


अधिक देश की खबरें