चहुतरफा घिरे आजम,कार्रवाई तय
आजम खाॅ-जया प्रदा



लखनऊ। अपने बिगड़ले बोल और अपने आप को कानून से ऊपर समझने वाले आजम खाॅ भाजपा की रामपुर प्रत्याशी अभिनेत्री जया प्रदा के बारे में आपत्तिजनक टिपपाणी करने के बाद बुरी तरह से घिर चुके है। एफआआई दर्ज होने के साथ ही चुनाव आयोग ने इस मामले में जिला निर्वाचन अधिकारी से रिपोर्ट तलब की है। कभी गाय तो कभी प्रधानमंत्री तो कभी कश्मीर मसले पर अपने चर्चित बयानों के कारण चर्चा में रहने वाले पूर्व मंत्री और रामपुर से गठबंधन प्रत्याशी पर अब तक बयानबाजी के बाद कोई बड़ी कार्रवाई नही हुई थी इसी का परिणाम है कि उनकी बयानबाजी आज मर्यादाविहीन टिप्पाणी पर उतारू हो गए। लेकिन इस बार बुरी तरह से फॅसेते नजर आ रहे है।  इस मामले को महिला आयोग ने भी संज्ञान में लेते हुए उनके चुनाव लड़ने के रोकने का इरादा जताया है। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव आजम खां ने रविवार को पार्टी मुखिया अखिलेश यादव की मौजूदगी में ही भाजपा प्रत्याशी जयाप्रदा के बारे में आपत्तिजनक टिप्पणी कर दी। इसके पूर्व भी काफी विवादित बोल आजम खाॅ बोल चुके है जैसे कारगिल में फतह करने वाला कोई हिन्दु नही था बल्कि मुस्लिम फौजी ने फतह दिलाई थी। नाचने वाली के मुंह नही लगता। जो ईद नही मानते वो शैतान है। मुस्लिम की डेयरी बंद कराई, गाय रोकी तो परिणाम ठीक नही होगे। बीजेपी ने उसे मेरा वध कराने भेजा है। 

ज्ञात हो कि समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव आजम खां ने रविवार को पार्टी मुखिया अखिलेश यादव की मौजूदगी में ही भाजपा प्रत्याशी जयाप्रदा के बारे में आपत्तिजनक टिप्पणी कर दी। बोले, शाहबाद वालों, उत्तर प्रदेश वालों तुम्हें पहचानने में 17 साल लग गए। हमनें तो 17 दिन में ही पहचान लिया था कि खाकी नेकर पहनती हैं। शिकायत मिलने पर चुनाव आयोग ने इस मामले को गंभीरता से लिया है और जिला प्रशासन से रिपोर्ट तलब की है। जिलाधिकारी ने वीडियो अवलोकन टीम से तत्काल रिपोर्ट मांगी है। शाहबाद में रविवार को सपा मुखिया अखिलेश यादव ने आजम खां के समर्थन में जनसभा को संबोधित किया। आजम ने जयाप्रदा पर निशाना साधा। बोले, मैं आपसे एक सवाल पूछना चाहता हूं कि जिसकी अंगुली पकड़कर हम रामपुर लाए। रामपुर की गलियों और सड़कों से पहचान कराई। किसी का कांधा नहीं लगने दिया, छूने नहीं दिया, गंदी बात नहीं करने दी। दस साल प्रतिनिधित्व कराया। शाहबाद वालों, रामपुर वालों,हिदुस्तान वालों उसकी असलियत समझने में आपको 17 साल लग गए, लेकिन मैं 17 दिन में पहचान गया कि वह खाकी नेकर पहनती हैं। आजम खां के इस बयान को लेकर शिकायत होने पर चुनाव आयोग ने गंभीरता से लिया और जिला प्रशासन से रिपोर्ट मांगी है। जिलाधिकारी आन्जनेय कुमार ङ्क्षसह ने बताया कि वीडियो अवलोकन टीम से रिपोर्ट मांगी गई है, आयोग को रिपोर्ट भेजी जाएगी और कार्रवाई भी की जाएगी। जिलाधिकारी ने बताया कि आजम खां, समीना बेगम, अरशद वारसी को नोटिस जारी किया गया है। इन तीनों के खिलाफ आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं, लेकिन इन तीनों ने अभी तक इसके विज्ञापन प्रकाशित नहीं कराए हैं। नियमानुसार इन्हें विज्ञापन प्रकाशित कराना जरूरी है।

जिलाधिकारी एवं जिला निर्वाचन अधिकारी आन्जनेय कुमार  ने भाजपा प्रत्याशी जयाप्रदा को भी नोटिस जारी किया है। उन पर आरोप है कि उन्होंने बिना सूचना दिए गुरुद्वारे में हाजिरी लगाई। प्रत्याशी अगर भीड़ में जाकर संबोधित करता है तो उस कार्यक्रम के खर्चे को प्रत्याशी के खर्चे में जोड़ा जा सकता है। 


अधिक राज्य की खबरें