टैग: This is due to the problem of liver
इस वजह से होती है लिवर की समस्या
jpg



देर से नजर आते हैं लक्षण: जनरल सर्जरी विभाग के डॉ. एचएस पहवा ने बताया कि गुर्दे के कैंसर के लक्षण शुरुआत में नजर नहीं आते हैं। पेशाब से खून आना, गिल्टियां, कमर के ऊपर हिस्से में दर्द आदि लक्षण हैं।

अल्ट्रासाउंड से पकड़े बीमारी: डॉ. नीरज रस्तोगी ने बताया कि गुर्दे के कैंसर से बचने के लिए साल में कम से कम एक बार सामान्य जांचें जरूर करानी चाहिए। अल्ट्रासाउंड जांच से गुर्दे के कैंसर को शुरुआती अवस्था में पकड़ा जा सकता है। इसके अलावा खून व पेशाब की जांचें कराएं। यदि पेशाब में खून आ रहा तो जांच कराकर विशेषज्ञ की सलाह लेनी चाहिए। 

भूख से कम खाना खाएं: केजीएमयू जनरल सर्जरी विभाग के डॉ. मनीष अग्रवाल ने बताया गुर्दे के कैंसर समेत दूसरी गंभीर बीमारी से बचने के लिए जीवनशैली में सुधार लाएं। मोटापे से बचें। भूख से 30 प्रतिशत कम भोजन करें। इससे खाना पचने में अंगों को आसानी रहती है। ज्यादा खाना खाने से अंगों को मेहनत करने में अड़चन आती है। नियमित कसरत करें। नमक और चीनी का सेवन कम करें। हरी सब्जियां और मौसमी फलों का पर्याप्त सेवन करें। प्रदूषण से बचें। 

धूम्रपान से तौबा करें
मोटे लोग जो धूम्रपान का सेवन करते हैं उनमें गुर्दे के कैंसर खतरा 50 गुना अधिक होता है। बीडी-सिगरेट, पान-मसाला खाने से खून में हानिकारक तत्व मिल जाते हैं। यह खून गुर्दे के माध्यम से साफ होता है। मसाला-बीडी में कैंसर फैलाने वाले 400 तत्व होते हैं जो गुर्दे में जम जाते हैं। 

पॉलिथीन में गर्म खाना नुकसानदेह
प्लॉस्टिक की पन्नी में चाय, कॉफी समेत दूसरे खाने-पीने की वस्तुओं को लाने से बचे। डॉ. एचएस पहवा ने बताया कि शरीर में किसी भी तरह की गांठ को नजरअंदाज न करें। डॉक्टर की सलाह पर जांच करें। 

कीमोथेरेपी और रेडियोथेरेपी कारगर नहीं
पीजीआई रेडियोथेरेपी विभाग के डॉ. नीरज रस्तोगी ने बताया कि गुर्दे के कैंसर में सबसे दुखद पहलू ही उसमें कीमोथेरेपी और रेडियोथेरेपी कारगर नहीं है। यही नहीं ऑपरेशन कराने के बाद 35 प्रतिशत मरीजों में बीमारी के दोबारा फैलने का खतरा बढ़ जाता है। गुर्दे का कैंसर सबसे पहले फेफड़े, दिमाग और लिवर समेत दूसरे अंगों को अपनी चपेट में लेता है। 


अधिक सेहत/एजुकेशन की खबरें