मार्क जकरबर्ग ने डिजिटल पेमेंट क्षेत्र में वॉट्सऐप पे से पेटीएम को धूल चटाने की ठानी?
जकरबर्ग की इस घोषणा ने सबसे ज्यादा खलबली इस क्षेेत्र की दिग्गज पेटीएम में मचा रखी है।


नई दिल्ली : फेसबुक के सीईओ मार्क जकरबर्ग द्वारा भारत में वॉट्सऐप पे को लॉन्च करने के लिए जोरशोर से काम करने की 24 अप्रैल को की गई घोषणा से स्पष्ट हो गया है कि देश में डिजिटल पेमेंट क्षेत्र में घमासान मचने वाला है। जकरबर्ग की इस घोषणा ने सबसे ज्यादा खलबली इस क्षेेत्र की दिग्गज पेटीएम में मचा रखी है। 2023 तक देश का डिजिटल पेमेंट उद्योग एक लाख करोड़ डॉलर का हो जाने की उम्मीद है। 


ऐमजॉन पीयर-टु-पीयर (P2P) ट्रांजैक्शन मार्केट में ऐंड्रॉयड कस्टमर्स के लिए ऐमजॉन पे यूपीआई लॉन्च करने की घोषणा कर चुकी है। गूगल पे ने इस क्षेत्र में अपनी मौजूदगी को मजबूती दी है, जिसके 4.5 करोड़ कस्टमर्स हैं और मार्च में रेकॉर्ड 81 अरब ट्रांजैक्शंस को अंजाम दिया है। एप्पल पे भी बाजार में कदम रख चुकी है और अपने फोन की कीमतों में कमी लाकर यह अपना दायरा अधिक से अधिक लोगों तक बढ़ाने की तैयारी में है। 

सबसे बड़ा गेमचेंजर होगा वॉट्सऐप 
वॉट्सऐप पे हालांकि इस क्षेत्र का सबसे बड़ा गेमचेंजर बनने जा रही है, जिसका बेहद आसान सा कारण यह है कि इसमें डिजिटल पेमेंट्स क्षेत्र का शीर्ष खिलाड़ी बनने की अपार क्षमता है। वॉट्सऐप के पास वर्तमान में 30 करोड़ यूजर हैं (फेसबुक के पास देश में अलग से 30 करोड़ यूजर हैं) और जैसे ही यह पीयर-टू-पीयर यूपीआई आधारित पेमेंट्स सर्विस शुरू करेगी, यह अपने ग्राहकों की संख्या में के मामले में इस क्षेत्र की दिग्गज पेटीएम को पछाड़ देगी। पेटीएम के पास वर्तमान में 23 करोड़ यूजर हैं। 

उद्यमी भी कर सकते हैं इसका इस्तेमाल 
इंडस्ट्री इंटेलिजेंस ग्रुप (IIG), सीएमआर के हेड प्रभु राम ने कहा, 'भारतीयों को वॉट्सऐप से बेहद लगाव है और वे इसके जरिये सुविधाजनक ट्रांजैक्शंस को भी पसंद करेंगे। मुझे उम्मीद है कि एक ट्रेंड आएगा, जिसमें उद्यमी और स्मॉल ऐंड मीडियम एंटरप्राइजेज वॉट्सऐप पे का इस्तेमाल शुरू कर देंगे।' 

पेटीएम के सीईओ ने फेसबुक को लिया आड़े हाथ 
पेटीएम के फाउंडर एवं सीईओ विजय शेखर शर्मा इस बात से वाकिफ हैं कि आने वाले समय में उन्हें भयानक वैश्विक प्रतिस्पर्धा से गुजरना होगा। शर्मा ने पिछले साल वॉट्सऐप की पैरंट कंपनी फेसबुक पर ट्वीट कर वार भी किया था। शर्मा ने ट्वीट में कहा, 'फ्री बेसिक्स के सस्ते ट्रिक्स से भारत के ओपन इंटरनेट के खिलाफ लड़ाई हारने के बाद फेसबुक एक बार फिर दांव आजमाने वाली है।' वहीं वॉट्सऐप के मुताबिक, लगभग 10 लाख लोग आसान और सुरक्षित तरीके से एक दूसरे को पैसे भेजने के लिए वॉट्सऐप पे को आजमा चुके हैं। 


अधिक बिज़नेस की खबरें