आजम ने कबूल किया कांग्रेस ने गठबंधन को पहुंचाया नुकसान
आजम के बाद उनकी पत्नी डॉ. तंजीन फातिमा ने अधिकारियों से अपने विधायक बेटे अब्दुल्ला आजम और पति आजम खान की जान को खतरा बताया है।


लखनऊ, (हि.स.)। लोकसभा चुनाव के आगाज से लेकर सातवें और अंतिम चरण के प्रचार की समाप्ति तक भले ही अखिलेश यादव और मायावती कांग्रेस को कोसते रहे हों, लेकिन सपा के वरिष्ठ नेता आजम खान का मानना है कि कांग्रेस की वजह से गठबंधन को नुकसान हुआ है। 

आजम ने अपने ताजा बयान में स्वीकार किया है कि नुकसान तो जाहिर है और अगर चार वोट भी कटे हैं तो नुकसान पहुंचा है। हालांकि इसके लिए वह कांग्रेस को ही जिम्मेदार ठहराते हैं। 

आजम के मुताबिक इस नुकसान की शुरुआत कांग्रेस ने मध्य प्रदेश और राजस्थान के विधानसभा चुनाव के दौरान की थी। अगर तब उसने थोड़ा सा दिल भी बड़ा किया होता तो ऐसी स्थिति नहीं होती। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस की सोच सिर्फ हम वाली है। 

वहीं चुनाव नतीजों के बाद विपक्ष को बहुमत मिलने की स्थिति पर प्रधानमंत्री के सवाल पर आजम ने कहा कि हमारे पास कई पीएम कैंडिडेट हैं उनमें से चुनेंगे। इसके अलावा महिला पर बयान देने को लेकर अपने ऊपर लगे आरोपों के जवाब में सफाई देते हुए उन्होंने कहा कि मेरी जिन्दगी का एक लम्बा सियासत और शराफत का सफर है। मैं बच्चियों के लिए चार स्कूल, एक यूनिवर्सिटी चलाता हूं। मेरी मां-पिता को गालियां दी गईं। कौन सी गंदी बात है जो मेरे बारे में नहीं कही गई। 

गौरतलब है कि आजम खान अपने भड़काऊ बयानों के कारण इस बार भी चुनाव के दौरान विवादों में घिरे रहे। उन्होंने भाजपा उम्मीदवार जयाप्रदा पर भी टिप्पणी की। भड़काऊ भाषण के कारण उनको चुनाव आयोग से प्रचार पर प्रतिबंध भी झेलना पड़ा। वहीं रामपुर जिला प्रशासन से भी उनकी ठनी हुई है। दोनों ओर से आरोप-प्रत्यारोप जारी हैं। 

आजम और उनके परिवार ने प्रशासन पर कई गम्भीर आरोप लगाये हैं। आजम के बाद उनकी पत्नी डॉ. तंजीन फातिमा ने अधिकारियों से अपने विधायक बेटे अब्दुल्ला आजम और पति आजम खान की जान को खतरा बताया है।

डॉ. तंजीन फातिमा ने आरोप लगाया है कि रामपुर के जिलाधिकारी आन्जनेय कुमार सिंह, अपर जिलाधिकारी जगदंबा प्रसाद गुप्ता, नगर मजिस्ट्रेट सर्वेश कुमार गुप्ता और एसडीएम सदर प्रेमप्रकाश तिवारी उनके परिवार के खिलाफ साजिश रच रहे हैं। उनके पति और बेटे की हत्या कराना चाहते हैं। उन्होंने अतिरिक्त सुरक्षा की मांग की है। 

डॉ. तंजीन फातिमा ने आशंका जतायी है कि 23 मई को मतगणना के दिन जिला प्रशासन गड़बड़ी कर सकता है। इससे पहले एडीएम और सिटी मजिस्ट्रेट ने आजम खान से खुद की जान को खतरा बताया था। इसके बाद आजम ने जिला प्रशासन के अफसरों से अपनी जान को खतरा बताया। वहीं एसडीएम सदर की तरफ से भी पुलिस अधीक्षक को पत्र भेजते हुए आजम खान से जान का खतरा बताया गया है। 


अधिक राज्य की खबरें