नोटबंदी के बाद क्या देश से भ्रष्टाचार खत्म हो गया? : राहुल गांधी
पी. चिदंबरम ने कहा कि मोदी के किसी एक भी उद्देश्य पूरा नहीं हो सका है लेकिन देश में करोड़ों लोगों के हालात जरूर बदतर हो गए।


नई दिल्ली :  कांग्रेस ने बुधवार को मोदी सरकार के खिलाफ दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में जन वेदना सम्मेलन का आयोजन किया। पूर्व वित्तमंत्री पी. चिदंबरम ने केंद्र की मोदी सरकार को नोटबंदी पर घेरते हुए सवाल किया कि 8 नवम्बर के बाद क्या देश से भ्रष्टाचार खत्म हो गया है? पी. चिदंबरम ने कहा, भाजपा सरकार भारतीय इतिहास की सर्वश्रेष्ठ इवेंट प्रबंधक मानी जाती है लेकिन हर इवेंट कुछ समय बाद ही खत्म हो जाता है। 

उन्होंने कहा कि अब कोई भी 'स्किल इंडिया' और 'स्वच्छ भारत' के बारे में बात नहीं करता। लोग ये जानना चाहते हैं कि हमारे जवान कब सुरक्षित होंगे? प्रधानमंत्री जिस कैशलेस सोसायटी की बात करते हैं, वो अब तक किसी भी देश में पूरी तरह से अपनाया नहीं गया है। उन्हें ऐसा करने का कोई अधिकार नहीं, ये जनता की इच्छा है कि वह नकद का इस्तेमाल करे या कार्ड का। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने 08 नवम्बर को काला-धन, भ्रष्टाचार, जाली मु्द्रा को समाप्त कर दिया था, इसलिए अब ये तीनों अस्तित्व में नहीं होनी चाहिए। प्रधानमंत्री को अपना वायदे के परीक्षरण करना चाहिए। 

कांग्रेसी नेता ने प्रधानमंत्री को चुनौती देते हुए कहा कि मई-जून के महीने में इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेज खुलेंगे, कैपिटेशन फीस ली जाएगी, क्या केंद्र इस पर रोक लगा सकेगी। क्या प्रधानमंत्री ये आश्वस्त कर सकते हैं कि अभिभावकों से कोई कैपिटेशन शुल्क नहीं लिया जाएगा। पी. चिदंबरम ने कहा कि मोदी के किसी एक भी उद्देश्य पूरा नहीं हो सका है लेकिन देश में करोड़ों लोगों के हालात जरूर बदतर हो गए। उन्होंने कहा कि हम ये जाना चाहते हैं कि रिजर्व बैंक ने नोटबंदी के लिए अपने निदेशकों को कब नोटिस जारी किया। 

उन्होंने कहा कि 8 नवंबर को मंत्रिमंडल की बैठक का कोई रिकोर्ड नहीं है, जब तक प्रधानमंत्री ने घोषणा नहीं कर दी। तब तक मंत्रियों को कैदी के रूप में रखा गया। उन्होंने कहा कि वित्तमंत्री के अलावा, दुनियाभर में किसी ने नहीं कहा कि इससे सकल घरूलू उत्पात प्रभावित नहीं होगा। इससे पहले, पार्टी उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि अच्छे दिन तब आएंगे जब 2019 में कांग्रेस सत्ता में आएगी। वेदना सम्मेलन को संबोधित करते हुए राहुल ने कहा, 'मोदी जी ने देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ तोड़ दी है। हम यहां लोगों को यह बताने के लिए आए हैं कि हम देश की आत्मा को जीवित रखेंगे। मीडिया के हमारे दोस्त खुलकर बोल नहीं पा रहे हैं। 

वे मेरे पास आते हैं और कहते हैं, हवा बदल गई है। अच्छे दिन तब आएंगे जब 2019 में कांग्रेस सत्ता में आएगी। आज मैंने अखबार में पढ़ा, पीएम इंडिया को ट्रांसफॉर्म करने की बात कर रहे हैं लेकिन उन्हें खुद से पूछना चाहिए कि अचानक ऑटो सेल क्यों गिर गई।' राहुल ने कहा, 'पीएम को देश के किसानों और गरीबों के साथ कुछ वक्त बिताना चाहिए। भाजपा ने सभी संस्थानों को कमजोर कर दिया है। इतिहास में ऐसा पहली बार है जब भारत के पीएम का मजाक उड़ाया जा रहा है। मैंने सिलसिलेवार ढंग से उन राज्यों के नाम गिना सकता हूं जहां कांग्रेस के नेताओं ने अपना खून-पसीना बहाया। 

देश के लोगों को पता है कि हमारे नेताओं ने इस देश के लिए खून और आंसू बहाए हैं। भाजपा और हमारे प्रधानमंत्री मोदी हमेशा यह पूछते हैं कि कांग्रेस ने पिछले 70 सालों में क्या किया, जनता को मालूम है हमने क्या किया।' राहुल गांधी की अध्यक्षता में आयोजित इस सम्मेलन में मंच पर पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, गुलाम नबी आजाद, मल्लिकार्जुन खड़गे समेत कई नेता दिखे। इस सम्मेलन में पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी शामिल नहीं हो पाई क्योंकि अभी भी वो पूरी तरह स्वस्थ नहीं हैं।


अधिक देश की खबरें