लखनऊ के सर्राफा कारोबारी पर पांच लाख का इनाम
चौक थाना क्षेत्र के फिरंगीटोला निवासी सर्राफा कारोबारी अमित अग्रवाल का तीन वर्षो तक पीछा करने के बाद सीबीआई ने उस पर पांच लाख का इनाम घोषित किया है।


लखनऊ : चौक थाना क्षेत्र के फिरंगीटोला निवासी सर्राफा कारोबारी अमित अग्रवाल का तीन वर्षो तक पीछा करने के बाद सीबीआई ने उस पर पांच लाख का इनाम घोषित किया है। कारोबारी पर विभिन्न व्यापारियों के रुपये और सोना लेकर फरार होने का आरोप है।  सीबीआई कोलकाता की एक टीम दो वर्षो से लगातार लखनऊ शहर के चौक इलाके में रहने वाले अमित अग्रवाल की तलाश कर रही है। 

सीबीआई के अमित के पीछे लगने से पहले वर्ष 2013 के दिसम्बर माह में लखनऊ से सपरिवार उड़ीसा गए अमित को वहां से फरार हुआ माना गया, जबकि उसकी पत्नी और दो बच्चों का शव सुसाइड नोट के साथ बरामद हुआ। तीन लोगों के आत्महत्या की गुत्थी सुलझाने में जुटी यूपी पुलिस की क्राइम ब्रांच से इस मामलें को जल्द से जल्द सुलझाने के लिए सीबीआई के हवाले कर दिया गया। अमित के पीछे लगी सीबीआई जब उसे दो वर्षो तक तलाशने में असफल रही तो कोलकाता सीबीआई क्राइम ब्रांच ने उस के सिर पर पांच लाख का इनाम रख दिया।
 
सीबीआई रिकॉर्ड के अनुसार मथुरा के लोई बाजार के मूल निवासी अमित अग्रवाल ने लखनऊ के चौक इलाके में रहना शुरू किया और यहां सर्राफा के कारोबारी के रूप में उसकी पहचान बढ़ने लगी। वह अगस्त माह वर्ष 2013 में अपनी पत्नी अंकिता, बेटी वाणी और बेटे दिव्यांश के साथ घूमने निकला और फिर लौट कर नहीं आया तो परिवार वालों ने गुमशुदगी दर्ज कराई। इसके बाद उड़ीसा से फोन से सूचना आई कि वहां एक होटल के कमरे में दो बच्चों सहित एक महिला का शव मिला है। 

जिनकी पहचान अ​मित के पत्नी और बच्चों के रूप में हुई। इस घटना के बाद से ​अमित कभी किसी को नही मिला है। वहीं फरार अमित अग्रवाल पर राजधानी लखनऊ के कई कारोबारियों के रुपये और सर्राफा को लेकर फरार होने का आरोप लगा हुआ है। सीबीआई को उसकी अंतिम लोकेशन मुम्बई में मिली थी। 


अधिक राज्य की खबरें