जानिए, टीम इंडिया ने इंग्लैंड की धरती पर कितने टेस्ट मैच जीते और कैसे
File Photo


नई दिल्ली :एक अगस्त से इंग्लैंड में टीम इंडिया की टेस्ट सीरीज शुरू होने जा रही है. दोनों टीमों की घोषणा हो चुकी है. अब मैच के दिन अंतिम 11 की ही घोषणा होगी. इस सीरीज में टीम इंडिया ने के पास इंग्लैंड में सीरीज जीतने की कड़ी चुनौती है. इसकी खास वजह यह है कि टीम इंडिया इस समय नंबर वन टेस्ट टीम है और वह वर्तमान में टेस्ट चैम्पियनशिप विजेता भी है. वह टेस्ट मैचों में अपनी बादशाहत कायम रखना जरूर चाहेगी.  हालांकि इस समय की रैंकिंग में टीम इंडिया के 125 अंक हैं और दूसरे स्थान पर काबिज दक्षिण अफ्रीका के 106 अंक हैं. अगर टीम इंडिया इस सीरीज के पांचों मैच हार भी जाती है तो भी उसका नंबर एक स्थान कायम रहेगा, लेकिन टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ऐसा बिलकुल नहीं चाहेंगे.

टीम इंडिया की इंग्लैंड में हमेशा ही परीक्षा होती रही है लेकिन टीम इंडिया ने जीत भी हासिल की हैं इंग्लैंड में. वो भी ऐसी वैसी जीत नहीं. हम बात करेंगे टीम इंडिया की इस सदी में पिछली टेस्ट मैचों की जिसमें उसने इंग्लैंड को उसी के देश में हराने में कामयाबी हासिल की. 

धोनी की टीम ने भी जीता था एक मैच 2014 में
पिछली बार इंग्लैंड में टीम इंडिया ने 2014 में दौरा किया था. इस दौरे में पहला टेस्ट तो ड्रॉ रहा था लेकिन दूसरे मैच में एमएस धोनी की टीम ने जीत हासिल की थी. इसके बाद के तीनों मैच हारकर टीम इंडिया ने यह सीरीज जरूर जीत ली थी, लेकिन दूसरा मैच टीम इंडिया के लिए यादगार ही रहा था.

17 जुलाई 2014 को शुरू हुए इस मैच में इंग्लैंड के कप्तान एलिस्टर कुक ने टॉस जीतकर पहले पहले गेंदबाजी करना पसंद किया था. इस मैच में भारत की शुरुआत अच्छी नहीं हो पाई थी. शिखर धवन तीसरे औवर में ही 7 रन बनाकर जेम्स एंडरसन का शिकार बने थे.  हालांकि पहले टेस्ट में 146 रनों की पारी खेलने वाले मुरली विजय ने जूरूर अपना विकेट जल्दी नहीं खोया लेकिन वे केवल 24 रन ही बना सके. इस मैच में टीम  इडिया के लिए अजिक्य रहाणे मे शतक लगा कर 103 रनों की पारी खेली थी. पुजारा 28, विराट कोहली 25 और भुवनेश्वर कुमार के 36 रनों की बदौलत टीम इंडिया 295 रनों पर आउट हो गई थी. इंग्लैंड की ओर से जेम्स एंडरसन ने सबसे ज्यादा 4 विकेट लिए थे. 

इसके बाद इंग्लैंड ने गैरी बैलेंस के शतक के दम पर 319 रन बनाए जिसमें गेंदबाज लियाम प्लैंकट के शानदार 55 रनों की पारी का भी अहम योगदान था. इस पारी में भारत के भुवनेश्वर कुमार ने सबसे ज्यादा छह विकेट लिए थे. दूसरी पारी में भारत ने मुरली विजय (95), पुजारा (43), रवींद्र जाडेजा (68) भुवनेश्वर कुमार (52) के संयुक्त योगदान की मदद से 324 रन बनाए थे और इंग्लैंड को जीत के लिए 319 रनों का लक्ष्य दिया. इसके जवाब में इंग्लैंड की पारी में केवल जो रूट ही सबसे ज्यादा 66 रन बना सके थे. इस पारी में इंग्लैंड के लिए यह लक्ष्य मुश्किल नहीं था, लेकिन ईशांत शर्मा ने इस पारी में बेहतरीन गेंदाबाजी करते हुए 7 विकेट लिए और मैच भारत के नाम करा दिया. ईशांत शर्मा इस मैच में मैन ऑफ द मैच रहे थे. 

2007 में राहुल द्रविड़ की टीम इंडिया की निर्णायक जीत
उससे पहले 2007 में टीम इंडिया राहुल द्रविड़ की अगुआई में इंग्लैंड दौरे पर गई थी जिसमें उसका सामना माइकल वॉन की कप्तानी वाली इंग्लैंड की टीम से था. पहले टेस्ट में इंग्लैंड के भारी होने के बाद भी टीम इंडिया उसे ड्रॉ कराने में कामयाब रही थी. इसके बाद 27 जुलाई को नॉटिंघम में दूसरा टेस्ट होना था. इस मैच में राहुल द्रविड़ ने टॉस जीतकर इंग्लैंड को पहले बल्लेबाजी करने को कहा था. 

इंग्लैंड को पहला झटका जहीर खान ने पारी के तीसरे ओवर में ही दे दिया. एंड्रयू स्ट्रॉस केवल चार रन बनाकर स्लिप में तेंदुलकर को कैच दे बैठे. इंग्लैंड की पूरी टीम केवल 198 रनों पर ही सिमट गई जिसमें सबसे ज्यादा रन एलिस्टर कुक (43) ने बनाए. उनके अलावा इयान बेल (31) और कोलिंगवुड ही (28) थोड़ा संघर्ष कर सके. भारत के लिए जहीर खान ने 4 और अनिल कुंबले ने 3 विकेट लिए. भारत ने इसके जवाब में सचिन तेंदुलकर (91) सौरव गांगुली (79), दिनेश कार्तिक (77) वसीम जाफर (62) और वीवीएस लक्ष्मण (54) की पारी के दम पर 481 रन बना सके.

इंग्लैंड ने दूसरी पारी में माइकल वॉन के शतक (124) कोलिंगवुड (63) और एंड्रयू स्ट्रॉस (55) की पारियों वजह से 355 रन बनाकर पारी की हार तो टाल गई लेकिन भारत को जीत के लिए केवल 73 रनों का लक्ष्य दे पाई, जिसे टीम इंडिया ने केवल तीन विकेट खोकर हासिल कर लिया. इसतरह से टीम इंडिया ने इस सीरीज में 1-0 की बढ़त हासिल कर ली. सीरीज के आखिरी मैच के ड्रॉ होने से यह सीरीज भारत ने 1-0 से जीत ली. 

2002 में सौरव गांगुली की कप्तानी में एक खास जीत
2002 में पहला टेस्ट मैच मेजबान इंग्लैंड से हारने के बाद और फिर दूसरा टेस्ट ड्रॉ होने के बाद 22 अगस्त को शुरू हुए तीसरे टेस्ट मैच में सौरव गांगुली ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया था. लीड्स में हुए इस मैच में  भारत की ओर से पहली पारी में तीन शतक लगे. राहुल द्रविड़ (148), सचिन तेंदुलकर (193) और गांगुली (128) के  अलावा संजय बांगर के 68 रनों की पारियों से टीम इंडिया ने 628 रन बनाकर 8 विकेट ही गंवाने के बाद पारी घोषित कर दी. 

इसके जवाब में इंग्लैंड टीम 273 रनों पर ही आउट हो गई जिसमें एलिक स्टुअर्ट ने 78, माइकल वॉन ने 61 रन बनाए थे. फिर फॉलोऑन खेलते हुए इंग्लैंड के कप्तान के शतक के बावजूद इंग्लैंड पारी की हार न बचा सकी और दूसरी पारी में 309 पर ही आउट हो गई और टीम इंडिया ने इस मैच में एक पारी और 46 रनों से जीत हासिल की. इस मैच में राहुल द्रविड़ को मैन ऑफ द मैच चुना गया. 

अधिक खेल की खबरें