टैग:#bheemarmy
भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर जेल से रिहा, यूपी सरकार ने हटाई रासुका
File Photo


सहारनपुर, मई 2017 से राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत सहारनपुर जेल में बंद एससी/एसटी नेता और भीम आर्मी के संस्थापक युवा नेता चंद्रशेखर उर्फ रावण को यूपी सरकार ने रिहा कर दिया है. सरकार ने भीम आर्मी के नेता चंद्रशेखर पर लगी रासुका को हटा लिया है.

रात 2 बजे  चंद्रशेखर उर्फ रावण को रिहा कर दिया गया. रिहाई के बाद उन्होंने कहा, ''सरकार मुझसे डर गई थी. मुझे पूरा विश्वास है कि अगले 10 दिनों में सरकार मुझे किसी आरोप में फंसाने की कोशिश करेगी. मैं अपने लोगों से कहूंगा कि साल 2019 में वो बीजेपी को सत्ता से उखाड़ फेंके''.

युवा नेता पर तीन महीने की समयावधि से पहले ही रासुका कानून हटा लिया गया है. इससे पहले दो अन्य व्यक्तियों के खिलाफ भी जारी रासुका कानून को यूपी सरकार ने रद्द किया था. युवा नेता पर सहारनपुर हिंसा भड़काने के मामले में संलिप्तता का आरोप था.

माना जा रहा है कि इस कदम के जरिए बीजेपी एससी/एसटी वर्ग को अपने साथ जोड़ने की कोशिश कर रही है.

क्या है पूरा मामला?
सहारनपुर के शब्बीरपुर गांव में सहारनपुर हिंसा की शुरुआत हुई थी. इसके बाद भीम आर्मी ने एससी/एसटी शोषण के खिलाफ 9 मई 2017 को सहारनपुर में महापंचायत बुलाई. पुलिस ने इसकी अनुमति नहीं दी लेकिन इसका आमंत्रण पत्र सोशल मीडिया में जारी हो गया था. सैकड़ों लोग महापंचायत में शामिल होने पहुंच गए जिसके बाद भीम आर्मी के सर्मथकों और पुलिस के बीच भिड़ंत हो गई. इसके बाद पुलिस ने चंद्रशेखर के खिलाफ मामला दर्ज किया.

अधिक राज्य की खबरें