जैश-ए-मुहम्मद ने दी भागवत व योगी को बम से उड़ाने की धमकी, एटीएस करेगी जांच
जैश-ए-मुहम्मद ने दी भागवत व योगी को बम से उड़ाने की धमकी, एटीएस करेगी जांच


श्रीलंका में बम धमाकों के चार दिन बाद आतंकी संगठन जैश-ए-मुहम्‍मद ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल व राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघ चालक मोहन भागवत की हत्या और शामली सहित कई जिलों के रेलवे स्टेशनों को बम से उड़ाने की धमकी दी है। धमकी भरा पत्र मिलने के बाद मेरठ जोन के सभी जिलों में अलर्ट घोषित कर दिया गया है। पुलिस ने इसे गंभीरता से लेते हुए मामले की जांच आतंक निरोधी दस्ते (एटीएस) को सौंप दी है। 

मंगलवार को सभी रेलवे स्टेशनों व ट्रेनों में सघन चेकिंग अभियान चलाया गया। शामली रेलवे स्टेशन के स्टेशन मास्टर विक्रांत सरोहा के नाम रजिस्टर्ड डाक से एक पत्र 20 अप्रैल को रेलवे कार्यालय शामली पहुंचा था। पत्र पढ़ने के बाद विभागीय अधिकारियों के साथ थाना शामली आरपीएफ व जीआरपी को भी इसकी जानकारी दी गई। जैश-ए-मुहम्मद के एरिया कमांडर मैसूर अहमद के नाम से भेजे गए पत्र में लिखा है कि-वह अपने जेहरेदारों की मौत का बदला जरूर लेंगे।

पत्र में 13 मई को शामली, बागपत, मेरठ, हापुड़, गजरौला, गाजियाबाद, मुजफ्फरनगर, बरेली, दिल्ली, पानीपत, रोहतक समेत कई रेलवे स्टेशन को बम से उड़ाने की धमकी दी गई है। 16 मई को इलाहाबाद के संगम मंदिर, काशी विश्वनाथ मंदिर, अयोध्या के राम मंदिर, गाजियाबाद के हनुमान मंदिर, दिल्ली के प्रमुख मंदिर और बस अड्डे को बम से उड़ाने की बात कही गई है। पत्र में लिखा है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री, दिल्ली के मुख्यमंत्री एवं राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख को बहुत जल्द मार देंगे..खुदा हाफिज।

यह धमकी भरा पत्र डाक से शामली रेलवे स्टेशन पर स्टेशन मास्टर को भेजा गया है। पत्र मिलने के बाद शामली रेलवे स्टेशन पर चेकिंग शुरू की गई है। यह पत्र जैश-ए-मुहम्‍मद के एरिया कमांडर मैसूर अहमद के नाम से भेजा गया था ।

पत्र में लिखा गया कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, दिल्ली के मुख्यमंत्री एवं राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत को बहुत जल्द मार देंगे। खुदा हाफिज। 20 अप्रैल को मिले इस धमकी भरे पत्र के बाद से रेलवे पुलिस अधिकारी मामले को दबाए हुए बैठे थे।

एसपी शामली अजय कुमार ने बताया यह मामला आज सामने आया है। उन्होंने खुफिया विभाग को अलर्ट कर दिया है। यह किसी की शरारत भी हो सकती है, लेकिन तमाम बिंदुओं पर गंभीरता से जांच की जा रही है। शामली रेलवे सुरक्षा बल के थाना प्रभारी प्रांजल कुमार बोहरा ने बताया कि इस मामले में जीआरपी पुलिस के साथ चेकिंग की जा रही है। ट्रेनों में भी चेकिंग की जा रही है।

डीएम शामली अखिलेश सिंह ने बताया कि पत्र की जानकारी मिलने के बाद ही एलआइयू को अलर्ट कर दिया गया है। हर जगह पर सघन जांच का आदेश दिया गया है। मामले को उच्च स्तर पर भी अवगत कराया गया है।

धमकी भरा पत्र मिलने की जांच एटीएस को
शामली के स्टेशन मास्टर को आतंकी संगठन की ओर से मिले धमकी भरे पत्र में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का भी जिक्र होने से पुलिस में हड़कंप मच गया है। पुलिस ने इसे गंभीरता से लेते हुए मामले की जांच आतंक निरोधी दस्ते (एटीएस) को सौंप दी है। आइजी (कानून व्यवस्था) प्रवीण कुमार त्रिपाठी ने मंगलवार को बताया कि शामली के स्टेशन मास्टर के अलावा उत्तराखंड में रुड़की के स्टेशन अधीक्षक को भी पत्र मिला है जिसमें इन स्टेशनों को उड़ाने की धमकी दी गई है। उन्होंने इस बात की पुष्टि की कि शामली के स्टेशन मास्टर को मिले पत्र में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का भी उल्लेख किया गया है। उन्होंने बताया कि प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए पुलिस महानिदेशक ने पूरे प्रकरण की जांच एटीएस को सौंप दी है।


अधिक राज्य की खबरें