लोहिया पथ पर भी बहने लगी परिवर्तन की बयार
लोहिया पथ मुलायम सिंह यादव ने अपने मुख्यमंत्री रहने के दौरान बनाया था।


लखनऊ : सूबे में सत्ता परिवर्तन और नई सरकार के कार्यभार ग्रहण करने के बाद राजधानी में भी इसका असर देखने को मिल रहा है। सभी प्रमुख चौराहों और सड़कों पर पूर्ववर्ती समाजवादी पार्टी (सपा) की सरकार से जुड़ी होर्डिंग और बैनर जहां पहले ही गायब हो चुके हैं, वहीं अब इन स्थानों पर भगवा माहौल की झलक देखी जा सकती है। राजधानी के ऐसे ही स्थान लोहिया पथ की बात करें इसे सपा सरकार से जोड़ा जाता है। लोहिया पथ मुलायम सिंह यादव ने अपने मुख्यमंत्री रहने के दौरान बनाया था। तब इसके दोनों ओर पैदल चलने वालों के साथ साइकिल मार्ग भी बनाया गया था। वहीं थोड़े-थोड़े कदमों पर लाइट लगायी गयी थी। 

सपा सरकार के दौरान यह इलाका उनसे जड़ी होर्डिंग आदि से भरा रहता था। वहीं बाद के समय में अखिलेश यादव सरकार ने इसका नए सिरे से सौन्दर्यीकरण किया। साइकिल मार्ग को हटाते हुए जहां सड़क दोनों तरफ चौड़ी की गयी, वहीं एक भव्य द्वार भी बनाया गया। इस द्वार की शैली राजधानी की ऐतिहासिक इमारतों की तर्ज पर बनायी गयी थी। दरअसल पांच कालीदास मार्ग स्थित मुख्यमंत्री का सरकार आवास लोहिया पथ से बेहद करीब होने के कारण पूरे पांच साल यहां सपा की गतिविधियां देखी जाती थीं। 

अखिलेश यादव के जन्मदिन से लेकर, पार्टी की रैलियों, अधिवेशन आदि के दौरान लोहिया पथ सपा के झण्डों और नेताओं की तस्वीरों, बधाईयों आदि से भरा रहता था। इसके अलावा यहां सपा सरकार की योजनाओं से सम्बन्धित होर्डिंग आदि भी नजर आती थीं, लेकिन अब बदली फिजा में यहां योगी आदित्यनाथ द्वारा स्थापित हिन्दू युवा वाहिनी के झण्डे लहरा रहे हैं। लोहिया पथ पर थोड़ी-थोड़ी दूर पर यह झण्डे इस तरह लगाये गए हैं कि पूरा नजारा ही बदला हुआ दिख रहा है। यहां आकर साफ प्रतीत होता है कि यूपी में परिवर्तन का दौर शुरू हो गया है और बदलाव की बयार बहने लगी है। 

अधिक राज्य की खबरें

सपा के आठवें राज्य अधिवेशन के लिए सज-धज के तैयार है रमाबाई रैली स्थल, कार्यकर्ताओं के हुजूम का आना शुरु..

कल 23 सितम्बर को आयोजित हो रहे समाजवादी पार्टी के 8वें प्रांतीय सम्मेलन की तैयारियां पूरी...